Aadhaar Card: आधार से संबंधित जान ले ये खास बातें, वरना देना पड़ेगा 1 लाख का जुर्माना

Newz Fast
4 Min Read
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Newz Fast, New Delhi Aadhaar Card: आधार कार्ड आज के समय में सबसे जरुरी दस्तावेज है। यह आम आदमी की एक बहुत बड़ी पहचान है। आज हम आपको इस आर्टिकल से आधार से जुड़ी कुछ ऐसी बातों के बारे में बताने जा रहे है जिनके जानना आपके लिए बहुत जरुरी है। वरना आपको 1 लाख का जुर्माना लग सकता है और जेल भी हो सकती है। आइए नीचे खबर में जानते है उन बातों के बारे में विस्तार से-

आधार कार्ड के जरिए लोग आजकल बहुत धोखाधड़ी कर रहे है। लेकिन हम आपको बता दे कि जेल आधार बनाते समय अगर आप गलत जानकारी देते है तो आपकी ये गलती आपके ऊपर भारी पड़ सकती है। आधार से जुड़े अपराधों के लिए यू. आई. डी. ए. आई. ने जुर्माना और सजा की तैयारी कर ली है।

Also Read This: Aadhar Card का अब ATM की तरह होगा उपयोग, जानिए किसे होगा इसका फायदा

इन चीजों के लिए किया जाता है आधार कार्ड का प्रयोग

आज के समय में आधार कार्ड(Aadhaar Card) को एक पहचान पत्र के रुप में उपयोग किया जाता है। 12 अंकों की आधार संख्या एक व्यक्तिगत पहचान है जो यूआईडीएआई द्वारा भारत सरकार द्वारा जारी की जाती है।

अपनी पहचान और पते के प्रमाण के रुप में आधार का प्रयोग किया जाता है। यू. आई. डी. ए. आई. की वेबसाइट से डाउनलोड किया गया आधार समान रुप से मान्य है।

(Aadhaar Card) आधार कार्ड के जरिए लोग आजकल बहुत धोखाधड़ी कर रहे है। ऐसे कई मामले भी सामने आए है। आधार कार्ड से जो लोग धोखाधड़ी करते है उनके लिए सजा भी प्रावधान की गई है।

कैद के साथ देना पड़ेगा इतना जुर्माना

Also Read This: Aadhar Card का अब ATM की तरह होगा उपयोग, जानिए किसे होगा इसका फायदा

आपको बता दें कि जनसांख्यिकीय या बायोमेट्रिक डिटेल को भी गलत साबित करना एक अपराध माना जाएगा। अगर वह ऐसा करते है और दोषी ठहराए जाते है तो उनको 3 साल की जेल के साथ 10,000 रुपये का जुर्माना भी भरना पड़ेगा।

यदि किसी धारक जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक जानकारी को बदलने का प्रयास भी करता है तो वह भी एक अपराध माना जाएगा। उसको भी 3 साल की कैद और 10,000 रुपये का जुर्माना भरना पड़ेगा।

यदि आप किसी भी निवासी की पहचान की डिटेल इकट्ठी करने के लिए अधिकृत एजेंसी होने का नाटक करते है तो यह भी एक अपराध माना जाएगा। यदि कोई भी व्यक्ति ऐसा करते हुए पाया जाता है तो उसे भी 3 साल का कारावास और दस हजार रुपये जुर्माने से दंडनीय है।

समझौते का उल्लंघन करना भी है अपराध

किसी धारक के नामांकन के दौरान इक्ट्ठी की गई डिटेल को किसी ऐसे व्यक्ति किसी पर अपना कोई अधिकार न हो उसे भेजता है तो वह किसी समझौते का उल्लंघन करना माना जाता है।

Also Read This: Aadhar Card का अब ATM की तरह होगा उपयोग, जानिए किसे होगा इसका फायदा

ऐसा करना भी एक अपराध है। यदि वह व्यक्ति बहकावे में आकर उस दोष का अंजाम देता है तो उसकी सजा 3 साल तक बढ़ सकती है और आपका जुर्माना भी 10,000 ज्यादा हो सकता है।

हैकिंग एक अपराध है। यदि ऐसा कोई करता है तो आपको 10 साल की सजा और 10 हजार रुपये का जुर्माना भरना पड़ेगा। डेटा भंडार में डेटा के साथ भी किसी भी प्रकार की कोई छेड़छाड़ करता है तो वह भी एक अपराध माना जाएगा। अपराध करने वाले व्यक्ति को 3 साल की सजा और 10 हजार रुपये का जुर्माना भरना पड़ेगा।

 

Share This Article