Indian Train Fact: ट्रेन में हॉर्न बजने के होते है अलग-अलग अर्थ, अधिकतर लोगों को नहीं है पता

Newz Fast
6 Min Read
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Newz Fast, New Delhi Indian Train Fact: आप सब ने ट्रेन में तो सफर किया ही होगा। लेकिन क्या आप जानते है पटरी पर दौड़ते समय ट्रेन में काफी बार हॉर्न बजता है। हम आपको बता दें कि ट्रेन में हॉर्न बजने के अलग-अलग मतलब होते है जिनकी जानकारी अधिकतर लोगों को नहीं है।

हर दिन ट्रेन में लाखों लोग सफर करते है। आप लोगों को बता दें कि पटरी पर दौड़ते समय कई बार ट्रेन में हॉर्न बजता है। कभी-कभी तो ऐसा होता है कि खड़ी गाड़ी में ही हॉर्न बजता है। लेकिन हम आपको बता दे, कि ये हॉर्न सामान्य नहीं है।

सभी प्रकार के हॉर्न के अलग-अलग मतलब होते है। कभी तो यह बहुत छोटा होता है और कभी लंबा। कभी इसके छोटे सींग होते है कभी लंबे। इन सभी सींग के अलग-अलग मतलब होते है और ये कुल मिलाकर 11 प्रकार के ट्रेन में सींग होते है।

Also Read This: रेल यात्रियों के लिए अब सफर करना होगा आसान, शुरु हुई नमो भारत ट्रेन, इतना होगा किराया

बहुत से लोगों को इस सींग के बारे में जानकारी नहीं है। यह हॉर्न लोको पायलट मुसीबत के समय में बजाता है। चलिए नीचे डिटेल में जानते है इनके क्या-क्या मतलब है-

1- छोटे सींग : जब ट्रेन में यात्री सफर करते है तो ट्रेन गंदी हो जाती है। तो ट्रेन को साफ करने के लिए छोटा हॉर्न बजाया जाता है। इसका अर्थ ये होता है कि सभी ट्रेन यार्ड में धोने और सफाई करने के लिए एकदम तैयार है। इसके बाद वह दूसरी ट्रेन में यात्रियों के साथ चले जाते है।

2- जब ट्रेन स्टेशन पर खड़ी रहती है तब 2 छोटे हॉर्न बजाए जाते है इसका अर्थ यह होता है कि लोको पायलट इस हॉर्न से ट्रेन के गार्ड को संकेत देता है कि ट्रेन दौड़ने के लिए तैयार है। उसके बाद गार्ड सिग्नल देता है और ट्रेन अगले स्टेशन के लिए निकल जाती है।

Also Read This: रेल यात्रियों के लिए अब सफर करना होगा आसान, शुरु हुई नमो भारत ट्रेन, इतना होगा किराया

3- आपातकालीन स्थिति में तीन छोटे सींगों का संकेत दिया जाता है। इन सींगों के बारे में आपने बहुत कम सुना हो। इन सींगों की जरुरत बहुत कम होती है। ऐसे में लोको पायलट हॉर्न बजाकर गार्ड को संकेत देता है कि उसने ट्रेन से नियंत्रण खो दिया है और अब गार्ड तुरंत वैक्यूम ब्रेक लगाकर ट्रेन को रोक देता है।

4- जब ट्रेन में तकनीकी खराबी होती है तब लोको पायलट चार छोटे हॉर्न बजाता है। जिसके बाद ट्रेन आगे नहीं बढ़ती है। इन छोटे सींग के बारे में आपने शायद ही कभी सुना होगा।

5- जब ट्रेन किसी समस्या में फंस जाती है तब लोको पायलट छह गुना छोटा हॉर्न बजाता है। वह मदद के लिए अपने पास के स्टेशन से अपील करता है क्योंकि समस्या क्या होता है वह केवल लोको पायलट ही जानता है।

Also Read This: रेल यात्रियों के लिए अब सफर करना होगा आसान, शुरु हुई नमो भारत ट्रेन, इतना होगा किराया

6- लोको पायलट इंजन शुरू करने से पहले गार्ड को ब्रेक पाइप सिस्टम सेट करने का संकेत देता है तब जब ट्रेन एक लंबा और छोटा हॉर्न देती है। अगर आप इस हॉर्न के बारे में जानते है तो पहले सतर्क हो जाएं।

7- इंजन को नियंत्रित करने के लिए ट्रेन का चालक गार्ड को दो छोटे और एक लंबे हॉर्न बजाता है। यह आवाज ट्रेन में जब आती है तब कोई ट्रेन की आपातकालीन चेन को खींचता है।

8- ट्रेन चालक गार्ड को इंजन का नियंत्रण लेने का संकेत दे रहा होता है तब दो लंबे और दो छोटे हॉर्न बजाए जाते है। ट्रेन अलग-अलग संयोजनों में हॉर्न देती है।

Also Read This: रेल यात्रियों के लिए अब सफर करना होगा आसान, शुरु हुई नमो भारत ट्रेन, इतना होगा किराया

9- जब ट्रेन में काफी लंबे समय तक हॉर्न बजता है तो ट्रेन यात्रियों को सूचना देती है कि आने वाले स्टेशन पर ट्रेन नहीं रुकेगी। वह वहां से सीधे सी अगले स्टेशन पर जाएगी।

10- रेलवे क्रॉसिंग के पास लोगों को सचेत करने के लिए 2 बार हॉर्न बजता है। जब ये हॉर्न बजे तो आप समझ जाए कि ट्रेन गुजरने वाली है।

11- जब दो लंबे और एक छोटे हॉर्न बजे तो समझ जाए कि ट्रेन यात्रा के दौरान पटरियों को बदल रही है। जब भी आप ट्रेन में यात्रा करेंगे तो इन हॉर्न का अवश्य ध्यान रखें।

Share This Article