home page

Vastu Tips: तुलसी को जल अर्पित करते समय इन बातों का रखें खास ध्यान, अगर हुई गलतियां, तो नहीं मिलेगा पूजा का फल

Vastu Tips  बता दें कि हिंदू धर्म में तुलसी का काफी महत्व है। तुलसी को देवी के रुप में पूजा जाता है. दैवीय शक्तियों से भरपूर तुलसी के पौधे की पूजा करने से व्यक्ति को हर कष्ट से छुटकारा मिल जाता है।
 | 
d

Newz Fast, Viral Desk   बताया जाता है कि  वेद-शास्त्रों के अनुसार तुलसी में भगवान का वास होता है। खास बात यह है कि इसी कारण इसे हर घर में लगाया जाता है, जिससे घर में हमेशा सुख-शांति बनी रहें। तुलसी के पौधे की नियमित रूप से पूजा करने का विधान है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार,  बताया जाता है कि रोजाना सूर्योदय से पहले जल चढ़ाने और शाम के समय तुलसी के नीचे घी का दीपक जलाने से हर कष्ट दूर हो जाता है।

इसके साथ ही घर का वातावरण सकारात्मक रहता है और घर में रहने वाले हर सदस्य की दिन दोगुनी रात चौगुनी तरक्की होती है।

वहीं, वास्तु शास्त्र में तुलसी को जल अर्पित करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। इसके बारे में कुछ नियम बताए गए हैं। माना जाता है कि अगर मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की कृपा पाना चाहते हैं, तो इन गलतियों को करने से बचना चाहिए।


आपको बता दें कि मान्यताओं के अनुसार एकादशी के दिन न चढ़ाएं तुलसी में जल.   शास्त्रों के अनुसार, एकादशी के दिन तुलसी के पौधे को जल नहीं चढ़ाना चाहिए।

क्योंकि इस दिन मां तुलसी भगवान विष्णु के लिए निर्जला व्रत रखती है। ऐसे में जल अर्पित करने से उनका व्रत टूट जाता है। जिसके कारण वह रुष्ट हो जाती है और व्यक्ति को कई आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

इसके अलावा एकादशी के दिन तुलसी की पत्तियां भी नहीं तोड़नी चाहिए।

Vastu Tips: रामा या श्यामा तुलसी में से कौन सा पौधा घर में लगाना है शुभ, साथ ही जानें किस दिन लगाएं


समय का रखें ध्यान

शास्त्रों के अनुसार,  बता दें कि तुलसी माता को जल हमेशा सूर्योदय से पहले करना चाहिए। आप चाहे तो सूर्योदय के समय भी कर सकते हैं। माना जाता है कि इस समय जल अर्पित करने से व्यक्ति की हर मनोकामना पूर्ण हो जाती है।

ऐसे कपड़े न पहनें

वास्तु शास्त्र के अनुसार, ध्यान रहें कि तुलसी माता को जल चढ़ाते समय ऐसे कपड़े बिल्कुल भी नहीं पहनने चाहिए, जिसमें सिलाई की गई हो। क्योंकि ऐसे वस्त्र पहनने से पूजा का पूर्ण फल नहीं मिलता है।

 

न चढ़ाएं अधिक जल

वास्तु शास्त्र के अनुसार, माता तुलसी को अधिक जल नहीं चढ़ाना चाहिए। क्योंकि अधिक मात्रा में जल चढ़ाने से तुलसी की जड़ सड़ जाती है। जिसके कारण वह जल्द सूख जाती है। ऐसे में व्यक्ति को कई संकटों का सामना करना पड़ सकता है।

_

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं।

हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'