VIDEO: इस हाल में पढ़ने को मजबूर है ये बच्चे, नदी पार कर जाना पड़ता है स्कूल

महाराष्ट्र के नासिक जिले के पेठ तालुका में एक नदी के ऊपर पुल नहीं होने के कारण स्कूली छात्र छात्राओं को लोग कंधों पर बिठाकर नदी पार करा रहे हैं.
 | 
a

Newz Fast,Mumbai महाराष्ट्र के नासिक जिले के पेठ तालुका में एक नदी के ऊपर पुल नहीं होने के कारण स्कूली छात्र छात्राओं को लोग कंधों पर बिठाकर नदी पार करा रहे हैं. 

महाराष्ट्र के नासिक जिले के पेठ तालुका में एक नदी के ऊपर पुल नहीं होने के कारण स्कूली छात्र-छात्राओं को लोग कंधों पर बिठाकर नदी पार करा रहे हैं.

इसका वीडियो न्यूज एजेंसी एएनआई ने शेयर किया है. स्थानीय निवासियों का कहना है कि वे स्कूली छात्र-छात्राओं को अपने कंधे या बड़े-बड़े बर्तनों में बैठाकर प्रतिदिन नदी पार करवाते हैं.

मुंबईः बारिश के कारण देश की बहुत सारी नदियां उफान पर हैं. कई राज्यों का एक बड़ा हिस्सा बाढ़ की चपेट में है, जिससे लोगों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है.

महाराष्ट्र में लगातार हो रही बारिश से 28 जिले प्रभावित हैं. नदियां उफान पर हैं. कई इलाके जलमग्न हैं. इसका सबसे ज्यादा प्रभाव दूर-दराज से स्कूल आने वाले बच्चों पर पड़ रहा है.

देश में शिक्षा का अधिकार कानून लागू है. बच्चों को शिक्षा मुहैया कराने के लिए केंद्र के साथ-साथ सभी राज्यों की सरकारें लगातार प्रयास कर रही हैं,

जिसके लिए स्कूलों में छात्र-छात्राओं के लिए मिड-डे मील से लेकर, वजीफा, किताब-काॅपी, ड्रेस, बैग इत्यादि मुहैया कराए जाते हैं.

लेकिन देश में अब भी कई इलाके ऐसे हैं, जहां मूलभूत सुविधाओं की कमी है. स्कूल है तो वहां तक पहुंचने के लिए कच्ची सड़क है.

स्कूल के रास्ते में नदी पड़े तो उसे पार करने के लिए पुल नहीं है. एक ऐसा ही वीडियो सामने आया है, जिसमें स्‍कूली बच्‍चे-बच्चियां अपनी जान जोख‍िम में डालकर नदी पार करने को मजबूर दिख रहे हैं.

महाराष्ट्र के नासिक जिले के पेठ तालुका में एक नदी के ऊपर पुल नहीं होने के कारण स्कूली छात्र-छात्राओं को लोग कंधों पर बिठाकर नदी पार करा रहे हैं.

इसका वीडियो न्यूज एजेंसी एएनआई ने शेयर किया है. स्थानीय निवासियों का कहना है कि वे स्कूली छात्र-छात्राओं को अपने कंधे या बड़े-बड़े बर्तनों में बैठाकर प्रतिदिन नदी पार करवाते हैं.

स्कूल पहुंचने के लिए कोई दूसरा रास्ता नहीं होने से इसके अलावा स्थानीय निवासियों के पास कोई अन्य विकल्प भी नहीं है. स्थानीय निवसियों ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि नदी गहरी है.

बच्चों का स्कूल जाना भी बहुत जरूरी है, इसलिए हम लोग उन्हें अपने कंधे पर या बड़े बर्तनों में बैठाकर नदी पार कराते हैं. तब वे स्कूल जा पाते हैं. उन्होंने राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन से नदी के ऊपर पुल बनाने का अनुरोध किया.