home page

परंपरा या मजबूरी? शादीशुदा महिलाओं को यहां 5 दिन बिना कपड़ों के रहना होगा!

परंपरा या मजबूरी? शादीशुदा महिलाओं को यहां 5 दिन बिना कपड़ों के रहना होगा!
 | 
parampra ya majburi
परंपरा या मजबूरी? शादीशुदा महिलाओं को यहां 5 दिन बिना कपड़ों के रहना होगा!

Newz Fast, New Delhi दुनिया भर में विभिन्न रीति-रिवाजों और परंपराओं का पालन किया जाता है। इनमें से कुछ रीति-रिवाज ऐसे भी हैं

जिनके बारे में जानकर गुस्सा आता है। भारत अपने रीति-रिवाजों और परंपराओं के लिए भी पूरी दुनिया में जाना जाता है, हमारे देश के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग परंपराएं पाई जाती हैं।

ऐसी ही अजीबोगरीब परंपरा भारत के इस गांव में आज भी कायम है। हिमाचल प्रदेश की मणिकर्ण घाटी के पिनी गांव में महिलाओं को यह रस्म दबाव में भी निभानी पड़ती है। इस प्रथा के अनुसार यहां विवाहित महिलाएं पांच दिनों तक बिना कपड़ों के रहती हैं।

हर बसंत में गांव की महिलाएं पांच दिनों तक कपड़े नहीं पहनती हैं और पुरुषों से दूर रहती हैं। और ऐसी मान्यता है कि अगर कोई विवाहित महिला इस दौरान इस प्रथा का पालन नहीं करती है, तो उसके पति और परिवार को खतरा हो सकता है। इसलिए महिलाओं को इस प्रथा का पालन करना पड़ता है।

क्या है इस प्रथा के पीछे की मान्यता ?:

पौराणिक कथाओं के अनुसार, उस समय पीनी गांव में राक्षसों का बहुत आतंक था और वे गांव की खूबसूरत महिलाओं को उठा लेते थे और धीरे-धीरे गांव की महिलाओं की संख्या कम होने लगी। जिसके बाद देवता लहुआ ने उन राक्षसों का वध किया। तो इस समय में महिलाएं बिना किसी आभूषण और कपड़ों के रहती हैं। आज भी यह माना जाता है कि लहुआ देवता हर वसंत में गांव में आते हैं और बुराई का नाश करते हैं।

इन पांच दिनों के दौरान गांव में शराब या मांस नहीं खाया जाता है और किसी की शादी नहीं होती है। इन पांच दिनों के दौरान कोई भी मुस्कुराता नहीं है और महिलाएं बिना कपड़ों के अपने ही घरों में कैद रहती हैं।