home page

Ramayana Yatra Tour: इतने से किराए में विदेश का सफर करवाएगी ये ट्रेन, है इतनी शानदार

आपको अगर विदेश घूमने की इच्छा है तो यह आपके लिए खास खबर है। आईआरसीटीसी द्वारा संचालित यह ट्रेन आपको नेपाल तक का सफर करवाएगी।

 | 
bharat

Newz Fast, New Delhi विदेश की धरती तक जाने वाली देश की पहली भारत गौरव ट्रेन (Bharat Gaurav Train) का संचालन 21 जून से कर दिया गया है। आईआरसीटीसी द्वारा संचालित यह ट्रेन बहुत खास मानी जा रही है।

fdsa

यह ट्रेन देश की पहली भारत गौरव ट्रेन है, जो रामायण सर्किट यात्रा पर रवाना हुई है। यह दिल्ली के सफदरजंग से चलकर भगवान श्रीराम से जुड़े स्थानों का भ्रमण करवाते हुए नेपाल के जनकपुर तक जाएगी। इसके बाद इस ट्रेन की वापसी होगी।

भारत गौरव ट्रेन 18 दिनों के टूर पैकेज के दौरान पर्यटक भगवान श्रीराम से जुड़े हुए देश के अलग-अलग हिस्सों में स्थित धार्मिक स्थलों का भ्रमण और दर्शन करेंगे।

fasdfad

यह भारत गौरव ट्रेन एक कॉरपोरेट बिजनेस सहयोगी के साथ मिलकर चलाई जा रही है। जो पूरी यात्रा के दौरान पर्यटकों के लिए ऑन बोर्ड और ऑफ बोर्ड सेवाओं का इंतजाम करेगा।

खास बात यह है कि आईआरसीटीसी की इस भारत गौरव ट्रेन में कुल 14 कोच हैं। ट्रेन के इन डिब्बों को लखनऊ के आलमबाग वर्कशॉप में तैयार किया गया है। इस दौरान ट्रेन में आधुनिक सुविधाएं बहाल की जा रही हैं। 

afdafsd

डिब्बों के अंदर की साज सज्जा का विशेष ख्याल रखा गया है। साथ ही साथ आधुनिक उपकरणों से सुसज्जित पैंट्री कार, सीसीटीवी कैमरे, अनाउंसमेंट सिस्टम आदि लगाए जा रहे हैं। ताकि यात्रा के दौरान पर्यटकों को आरामदायक सफर का अनुभव प्राप्त हो सके।

भारत गौरव ट्रेन के डिब्बों की बाहरी दीवारों पर भी विशेष तौर से पेंटिंग की गई है। जिसमें देश के विभिन्न सांस्कृतिक पहलुओं को भी दर्शाया गया है। जिसमें भारत के प्राचीन स्मारक व्यंजन अलग-अलग राज्यों के परिधान त्यौहार योग और लोक कलाओं का वर्णन किया गया है। 

ट्रेन के बाहर सारनाथ स्तूप, सांची स्तूप, महाबोधि मंदिर,मध्यकालीन जयपुर का हवा महल, कुंभलगढ़ का विशाल किला,हम्पी का विशाल रथ और ब्रिटिश कालीन इंडिया गेट के चित्र बने हुए हैं।

afsafs

यही नहीं, मुगलकालीन स्मारक जैसे ताजमहल,हिमायू का मकबरा,समकालीन ग्वालियर का किला और ओरछा के मंदिर की तस्वीरों के साथ-साथ लोटस टेंपल,स्टैचू ऑफ यूनिटी, दिल्ली वार मेमोरियल की तस्वीरें भी ट्रेन पर लगाई गई हैं।

इसके अलावा ट्रेन के दो डिब्बों पर योग और आयुर्वेद से संबंधित तस्वीरें भी लगाई गई हैं। साथ ही साथ भारत के अलग-अलग राज्यों के परिधानों को भी इस ट्रेन के टीम में शामिल किया गया है। पैंट्री कार पर देश के अलग-अलग क्षेत्रीय व्यंजनों को दिखाया गया है।

21 जून से शुरू होने वाली भारत गौरव ट्रेन की यात्रा रामायण सर्किट पर आधारित है और यह ट्रेन पर्यटकों को लेकर भगवान श्रीराम से जुड़े हुए अयोध्या, बक्सर, सीतामढ़ी, काशी, प्रयाग, श्रृंगेश्वर, चित्रकूट नासिक,हंपी, रामेश्वरम,कांचीपुरम और भद्राचलम सहित तमाम स्थलों तक जाएगी।

यही नहीं यह ट्रेन नेपाल के जनकपुर की जाएगी। ट्रेन की टिकट 62370/- रुपए निर्धारित की गई है।

हर कोच में सुविधा और सुरक्षा के लिए 2 वेटर, एक हाउसकीपिंग स्टाफ और एक गार्ड मिलेगा। सभी कर्मचारियों मैरून रंग की कढ़ाई वाले सूट, पगड़ी, ऑफ व्हाइट कुर्ता और पायजामा में नजर आएंगे।