home page

CM केजरीवाल ने दिए मजिस्ट्रेड जांच के आदेश, परिजनों को 10 लाख रुपए के मुआवजे का किया ऐलान

दिल्ली के मुंडका इलाके में हुए भीषण अग्निकांड की लपटें पूरी राजधानी में महसूस की जा रही हैं। भीषण हादसे के बाद शनिवार सुबह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल घटना स्थल पर पहुंचे। अधिकारियों के बातचीत के बाद उन्होंने महत्वपूर्ण घोषणाएं कीं।
 | 
CM

Newz Fast,New Delhi  दिल्ली के मुंडका इलाके में हुए भीषण अग्निकांड की लपटें पूरी राजधानी में महसूस की जा रही हैं। हादसे के कई घंटों के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शनिवार सुबह अपने लाव लश्कर के साथ घटना स्थल पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने संबंधित अधिकारियों से बात की और स्थिति का जायजा लिया।

मौजूद स्थिति को समझने के बाद सीएम केजरीवाल ने हादसे की मजिस्ट्रेट जांच का आदेश दे दिया। इसके साथ ही मुख्यमंत्री केजरीवाल ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को और घायलों के लिए मुआवजे का ऐलान भी किया। इस दौरान सीएम के साथ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी मौजूद थे। बता दें कि इस हादसे में फैक्ट्री के मालिक वरुण और हरीश गोयल के पिता अमरनाथ की भी झुलसकर मौत हो गई है। उन्होंने अस्पताल में दम तोड़ा।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शनिवार को सुबह करीब 11 बजे घटना स्थल पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने घटना स्थल का जायजा लिया। सीएम ने अधिकारियों से मौजूद स्थिति के बारे में जानकारी ली। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने मृतकों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए शवों की शिनाख्त कराने के लिए उनका डीएनए जांच कराने की बात कही है।

सीएम ने किया मुआवजे का ऐलान
मुंडका में हुए हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को 10-10 लाख रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया है। इसके अलावा इस दुर्घटना में घायल हुए लोगों को 50-50 हजार रुपए की सहायता राशि देने की भी बात कही।
केजरीवाल ने बताया कि इस हादसे के पीछे जो भी दोषी पाया जाएगा उसे बख्शा नहीं जाएगा।

बता दें कि, दिल्ली के पश्चिमी इलाके में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास स्थित चार मंजिला बिल्डिंग में शुक्रवार शाम आग लगने से कम से कम 27 लोगों की मौत हो गई। इस हादसे में 19 लोग घायल बताए जा रहे हैं। इनमें से कुछ की हालत गंभीर है।

पुलिस के मुताबिक आग इमारत की पहली मंजिल से लगनी शुरू हुई जहां CCTV कैमरा और राउटर निर्माता कंपनी का ऑफिस था। आग कितनी भयानक थी, इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि, काबू करने के लिए दमकल की 30 गाड़ियां मौके पर पहुंचीं थीं।

 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रात करीब 11 बजे आग पर काबू पा लिया गया। बहरहाल कई शव इतनी बुरी तरह झुलस गए हैं, कि उनकी शिनाख्त करना मुश्किल हो गया है। हालांकि सीएम ने कहा है कि, डीएनए टेस्ट के जरिए उनकी पहचान की जाएगी और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।