राहुल गांधी ने प्रदर्शन के दौरान फाड़ी कांग्रेस नेता की शर्ट ताकि...', BJP का बड़ा आरोप

बीजेपी ने इससे पहले यह भी दावा किया था कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदर्शन के दौरान ड्यूटी पर तैनात महिला पुलिसकर्मियों का हाथ मरोड़ा और उन्हें लात तक मारी.

 | 
dfdf

Newz Fast, New Delhi कांग्रेस ने शुक्रवार को काले कपड़े (Congress Protest) पहनकर महंगाई, बेरोजगारी और आवश्यक वस्तुओं पर जीएसटी को लेकर सड़कों पर प्रदर्शन किया. प्रदर्शन दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय से शुरू हुआ था.

जिसका नेतृत्व राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने किया. इस दौरान भारी गहमागहमी के बाद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी समेत कई कांग्रेसी नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया था.


जिसके बाद राहुल ने आरोप लगाया था कि पार्टी के कुछ सांसदों के पुलिस ने मारपीट की. इस बीच अब बीजेपी ने राहुल और प्रियंका गांधी पर 'तमाशे की राजनीति' करने का आरोप लगाया है.

दरअसल, बीजेपी आईटी विंग के प्रभारी अमित मालवीय ने एक फोटो ट्वीट की है, जिसमें कांग्रेस नेता दीपेंद्र एस हुड्डा और राहुल गांधी पुलिसकर्मियों के साथ संघर्ष करते नजर आ रहे हैं.

अमित मालवीय ने फोटो के साथ लिखा, "राहुल गांधी ने अपने सहयोगी दीपेंद्र हुड्डा की शर्ट फाड़ दी, ताकि प्रदर्शन की एक अच्छी फोटो बन सके और दिल्ली पुलिस को इसके लिए दोषी ठहराया जा सके."

प्रियंका पर पुलिसकर्मियों से मारपीट का आरोप

इससे पहले मालवीय ने यह भी दावा किया था कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, जो पार्टी मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन में शामिल हुई थीं, ने ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों का हाथ मरोड़ा और उन्हें लात तक मारी.मालवीय ने ट्वीट में कहा, “ड्यूटी पर तैनात महिला पुलिसकर्मी के साथ प्रियंका वाड्रा की मारपीट, उनका हाथ मरोड़ा और लात मारी. फिर वे शिकायत करते हैं कि पुलिस हाथापाई कर रही है, जबकि सच इसके विपरीत है."

गौरतलब है कि घटना के एक वीडियो में दिल्ली पुलिस को कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा को विजय चौक पर प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लेने की कोशिश करते हुए देखा जा सकता है. इस दौरान राहुल गांधी हुड्डा को पकड़े हुए दिख रहे हैं.

अमित शाह ने तुष्टिकरण की राजनीति का आरोप लगाया

केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के दिग्गज नेता अमित शाह ने कांग्रेस पर आरोप पर तुष्टिकरण की राजनीति का आऱोप लगाया. उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने 5 अगस्त के दिन ही इसलिए काले कपड़े पहनकर विरोध किया, क्योंकि 2020 को इसी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राम मंदिर की नींव रखी गई थी. जिस पर अपना विरोध व्यक्त करने के लिए कांग्रेस नेताओं के काले कपड़ों में प्रदर्शन किया.