home page

लड़कियों से बिना पूछे यहां से पता लगाएं उनकी उम्र, जान लीजिए तरीका

इंस्टाग्राम की एक खास टेक्नीक से अब उम्र का पता लगा सकेंगे। इंस्टा पर अब फॉलोअर्स से उनकी उम्र वेरिफाई की जाएगी।

 | 
women

Newz Fast, New Delhi Instagram आपके लिए खास ट्रिक लेकर आया है। नए वेरिफिकेशन मेथड्स की टेस्टिंग इससे आप कर सकते हैं। अब इंस्टाग्राम फॉलोअर्स से आपकी उम्र पूछना और यहां तक ​​​​कि एआई का उपयोग करना भी शामिल कर चुका है।

खास बात इसमें यह है कि ये एक वीडियो सेल्फी के माध्यम से भी आपकी उम्र का अनुमान लगा सकता है। यह सिर्फ इसलिए किया जा रहा है कि यूजर कम से कम 13 वर्ष के हैं या नहीं।

यह सुनिश्चित हो जाए। इसमें बताया जा रहा है कि किशोर और वयस्क के आयु वर्ग की पहचान का यही तरीका बताया जा रहा है।

आपको बता दें कि सोशल वाउचिंग सिस्टम के लिए इंस्टाग्राम यूजर के तीन मैनुअल फॉलोअर्स से उनकी उम्र की पुष्टि करने के लिए कहता है।

अनुरोध का जवाब देने के लिए उन अनुयायियों की आयु कम से कम 18 होनी चाहिए और उनके पास तीन दिन का समय होना चाहिए। यूजर अभी भी आईडी कार्ड की तस्वीरों के साथ अपनी उम्र की पुष्टि कर सकते हैं।

AI भाग के लिए आपको एक वीडियो सेल्फी लेने की आवश्यकता होती है, जिसे Instagram फिर Yoti नामक कंपनी के साथ शेयर करता है।

इंस्टाग्राम ब्लॉग पोस्ट में कहता है कि योती की तकनीक आपके चेहरे की विशेषताओं के आधार पर आपकी उम्र का अनुमान लगाती है और जो हमारे साथ अनुमान लगाती है, उसे शेयर करती है।

मेटा और योति फिर इमेट को हटा देते हैं। तकनीक आपकी उम्र के अलावा कुछ नहीं पहचान सकता है।

फिर भी यह प्रणाली विवादास्पद नजर आती है। क्योंकि यूजर्स अपने डाटा के साथ फेसबुक और इंस्टाग्राम दोनों पर व्यापक रूप से अविश्वास करते हैं। उसके ऊपर, योती की आयु पहचान एआई में आपके लिंग, आयु सीमा और त्वचा के रंग के आधार पर त्रुटियां हैं।

Yoti की प्रणाली पहले से ही यूके और जर्मन सरकारों द्वारा सैकड़ों हजारों चित्रों पर प्रशिक्षित होने के बाद गहरी शिक्षा का उपयोग करके उम्र का पता लगाने के लिए उपयोग की जाती है।

लेकिन इसमें कुछ खामियां है। जैसे किसी शख्स की उम्र 25 साल बताई गई है। अगर वो अपना चश्मा उतार दे तो चार साल कम बताने लगता है।

इंस्टाग्राम का कहना है कि इसका उद्देश्य लोगों की उम्र को समझने के लिए एआई का उपयोग करना है। उदाहरण के लिए किशोरों को फेसबुक डेटिंग तक पहुंचने से रोकना, किशोरों को मैसेजिंग करने से रोकना उद्देश्य है।