home page

प्रदेश में लगाए जाएंगे बिजली स्टोरेज डिवाइस, आम जनता को मिलेगा इन्वर्टर से छुटकारा

प्रदेश के बिजली घरों में अब बिजली को स्टोर किया जाएगा. स्टोरेज के लिए हर बिजली घर में स्टोरेज डिवाइस लगाए जाएंगे.
 | 
bjali

Newz Fast, New Delhi  एक बिजली घर में 10 मेगावाट बिजली को स्टोर किया जाएगा. मौजूदा समय बिजली के लिए Peak का समय है,  इस समय सबसे अधिक बिजली की आवश्यकता होती है. आमतौर पर विभाग को जरूरत के Time बाजार से महंगी बिजली को खरीदना पड़ता है.

अब हरियाणा में नहीं होगी बिजली की कमी 

अबकी बार April के महीने में ही बिजली विभाग को 12 रूपये प्रति Unit तक बिजली खरीदनी पड़ी थी. बिजली विभाग के एसीएस ने योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक भी की.

बता दे कि प्रदेश में 33 केवी के 823, 66 केवी के 145, 132 केवी के 187 और 220 केवी के 83, 400 केवी के 7 बिजली घर है. करीब 1245 बिजली घरों में इस डिवाइस को लगाने की planning तैयार की जा रही है. स्टोरेज बिजली का कुल आंकड़ा 12450 मेगावाट का होगा. यह प्रदेश की 24 घंटे की खपत है.
 
बिजली विभाग ने 8 जून से शुरू की थी कृषि के लिए सप्लाई  

इस योजना को इसी साल लागू किया जाएगा. बिजली विभाग की तरफ से 8 जून को कृषि के लिए बिजली सप्लाई शुरू कर दी गई थी. मई 15 जून से किसानों ने धान रोपाई का कार्य भी शुरू कर दिया. अब रोजाना किसानों को 3 ग्रुपों में 8 घंटे बिजली की सप्लाई दी जा रही है.

बिजली का पीक समय अब दोपहर 2:00 बजे आ गया है. प्रदेश में 6.6 लाख बिजली कनेक्शन है. सभी बिजली घरों में बिजली स्टोरेज डिवाइस को लगाने की योजना है. इसे बिजली के पीक समय में प्रयोग किया जाएगा.