home page

Currency Printing Rate List: अब 200 रुपये का नोट हुआ 500 से भी महंगा, जानिए किस नोट को छापने में आता है कितना खर्चा?

 एक RTI के जवाब में RBI ने बताया कि इन दिनों 10 रुपये के नोट को छापना 20 रुपये के मुकाबले महंगा हो गया है। इसकी वजह कागज की लगातार बढ़ती कीमतें हैं।
 | 
note

Newz Fast, New Delhi बढ़ती महंगाई ने आम आदमी की थाली का बजट बिगाड़ कर रख दिया है। लगातार रोजर्मरा की चीजों के दाम बढ़ रहे हैं। इस बढ़ती महंगाई का सीधा असर आम आदमी की जेब पर पड़ रहा है।

सिर्फ आम आदमी को ही नहीं बल्कि आरबीआई को भी नोट छापना अब महंगा पड़ रहा है। हाल ही में आरटीआई में खुलासा हुआ है कि अब 200 रुपये के नोट छापने की लागत 500 रुपये के मुकाबले से ज्यादा हो रही है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने नोट छापने में होने वाले खर्च के बारे में बताया है।

RTI में हुआ खुलासा

हाल ही में एक RTI में पता चला है कि 200 रुपये का नोट छापना 500 रुपये की तुलना में कहीं ज्‍यादा महंगा हो गया है।

एक RTI के जवाब में RBI ने बताया कि इन दिनों 10 रुपये के नोट को छापना 20 रुपये के मुकाबले महंगा हो गया है। इसकी वजह कागज की लगातार बढ़ती कीमतें हैं। इसके अलावा RBI ने 2 हजार रुपये का नोट छापना लगभग बंद कर दिया है।

जानिए किस नोट को छापने में आता है कितना खर्चा?

10 रुपये के एक हजार नोट छापने का खर्च- 960 रुपये
20 रुपये के एक हजार नोट छापने का खर्च- 950 रुपये
50 रुपये के एक हजार नोट छापने का खर्च- 1,130 रुपये
100 रुपये के हजार नोट छापने का खर्च- 1,770 रुपये
200 रुपये के हजार नोट छापने का खर्च- 2,370 रुपये
500 रुपये के हजार नोट छापने का खर्च- 2,290 रुपये
50 रुपये के नोट की छपाई में सबसे ज्यादा उछाल

बढ़ती महंगाई के बीच नोटों की लागत में भी उछाल देखने को मिला है। सबसे ज्यादा असर 50 रुपये के नोट पर पड़ा है। RBI के मुताबिक, वित्तीय वर्ष 2020-21 में 50 रुपये के हजार नोट छापने का खर्च 920 रुपये आता था, जो 2021-22 में 23 फीसदी बढ़कर 1,130 रुपये पर आ गया।

वहीं इसका सबसे कम असर 20 रुपये के नोट पर पड़ा है। फिस्कल ईयर 2020-21 में 20 रुपये के हजार नोट छापने पर खर्च 940 रुपये था, जो बढ़कर 950 रुपये हो गया। इस दौरान 500 रुपये के नोट पर कोई असर देखने को नहीं मिला है।