home page

एक से ज्यादा बैंक Account वाले हो जाएं सावधान, वरना हो सकता है नुकसान

आपको अलग-अलग बैंक खातों  के लिए अलग-अलग मेंटेनेंस चार्ज, क्रेडिट और डेबिट कार्ड चार्ज, सर्विस चार्ज देना पड़ता है। ऐसे में एक अकाउंट होने से चार्ज भी एक अकाउंट के लिए देना होगा।
 | 
bank

Newz Fast, New Delhi कई बार व्यक्ति न चाहकर भी दो-दो बैंक अकाउंट रखने पड़ते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक से ज्यादा बैंकों में अकाउंट खोलना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। आइए जानते हैं क्यों?
दरअसल एक से ज्यादा अकाउंट खोलने के जहां एक तरफ फायदे होते हैं वहीं दूसरी तरफ नुकसान भी होते हैं।

क्योंकि आपको अलग-अलग बैंक खातों  के लिए अलग-अलग मेंटेनेंस चार्ज, क्रेडिट और डेबिट कार्ड चार्ज, सर्विस चार्ज देना पड़ता है। ऐसे में एक अकाउंट होने से चार्ज भी एक अकाउंट के लिए देना होगा।

अब मान लीजिए कि आपके दो अकाउंट हैं, लेकिन आप एक बैंक से ट्रांजेक्शन (transaction) करते हैं और बाकी बैंकों में कोई काम नहीं लेते हैं तो ऐसे में वो खाता इनएक्टिव हो जाता है।

यानी काफी समय तक  ट्रांजेक्शन (transaction) नहीं होने पर ऐसे खाते इनऑपरेटिव में बदल जाते हैं और उन खातों में पड़ा हुआ आपका पैसा डूब जाता है।

आज के समय नियमों के अनुसार बैंक अकाउंट में मिनिमम बैलेंस रखना जरूरी हो गया है। जैसे कई बैंकों में न्यूनतम बैलेंस 5000 रुपए होता है और प्राइवेट बैंकों में इसे 10,000 रुपए कर दिया गया है।

अब ऐसे में अगर आप मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं रखते  हैं तो आपको पेनल्टी देनी पड़ती है और इससे आपका सिबिल स्कोर खराब हो सकता है।