एक कारोबारी ने अपने पूरे परिवार को किया खत्म, कार में आग लगाकर दी जान, जानिए मामला ​​​​​​​

नागपुर में कारोबारी ने परिवार को बहाने से ले जाकर कार में आग लगा ली. कारोबारी की मौत हो गई, पत्नी-बेटे बुरी तरह झुलस गए. (फोटो स्क्रीनशॉट)नागपुर में कारोबारी ने परिवार को बहाने से ले जाकर कार में आग लगा ली. कारोबारी की मौत हो गई, पत्नी-बेटे बुरी तरह झुलस गए.
 | 
a

 Newz Fast,Nagpur नट-बोल्ट बनाने का कारोबार करने वाले 58 साल के रामराज भट्ट नागपुर में पत्नी और बेटे को होटल ले जाने के बाहर कार में लेकर घर से निकले.

बीच रास्ते में एसिडिटी की दवा बताकर जहर पीने को कहा, लेकिन दोनों ने मना कर दिया. इसके बाद उन्होंने कार में सबके ऊपर पेट्रोल छिड़ककर आग लगी दी. कारोबारी की मौत हो गई. पत्नी-बेटे की हालत गंभीर है.

महाराष्ट्र के नागपुर में दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है. 58 साल के एक कारोबारी ने कार के अंदर अपने और परिवार के ऊपर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा ली.

इस घटना में कारोबारी की जलकर मौत हो गई जबकि पत्नी और बेटे किसी तरह खुद को बचाने में कामयाब रहे. मृतक की पहचान रामराज भट्ट के रूप में हुई है.

जानकारी के मुताबिक, कोरोना महामारी की वजह से उनका बिजनेस मंदा चल रहा था, जिससे वह परेशान थे. इसी के चलते उन्होंने ये खौफनाक कदम उठाया.

जयताला के रहने वाले रामराज भट्ट का नट-बोल्ट बनाने का कारोबार था. अलग-अलग कंपनियों में इनकी सप्लाई की जाती थी लेकिन कोरोना के चलते उनके बिजनेस को जबरदस्त नुकसान हुआ. रामराज भट्ट का बेटा नंदन इंजीनियर था, लेकिन इन दिनों बेरोजगार था.

इससे भी भट्ट काफी परेशान थे. पीटीआई के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि रामराज के घर से एक सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उन्होंने कथित तौर पर कहा है कि वित्तीय संकट की वजह से अपनी जिंदगी खत्म कर रहे हैं.


पुलिस ने बताया कि रामराज भट के इरादों का उनकी पत्नी और बेटे को पता नहीं था. उन्होंने मंगलवार को दोपहर वर्धा रोड पर एक होटल में खाने का बहाना बनाकर पत्नी और बेटे को कार में बिठाया.

घर से निकलने के बाद खापड़ी पुनर्वासन पहुंचने पर रामराज ने बीच रास्ते में ही पत्नी और बच्चों को एसिडिटी की दवा बताकर जहर पीने के लिए दिया, लेकिन उन्होंने मना कर दिया.

इसके बाद उन्होंने अपने ऊपर और पत्नी-बेटों के ऊपर पेट्रोल छिड़क दिया. पत्नी और बेटा कुछ समझ पाते, इससे पहले ही रामराज भट्ट ने कार में आग लगा दी.

पुलिस के मुताबिक, पत्नी और बेटा तुरंत ही कार का दरवाजा खोलकर बाहर निकल गए और किसी तरह अपने ऊपर लगी आग को बुझाया.

लेकिन इस दौरान राजराज भट्ट की कार के अंदर ही जलकर मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि राजराज की पत्नी संगीता (55) और बेटा नंदन (30) को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है.