12 साल का बच्चे ने दी बड़ी वारदात को अजांम, 35 लाख रुपए लेकर फरार,जानिए मामला

पटियाला के एसबीआई की जोनल शाखा से करीब 12  साल का एक लड़का किसी अन्य आरोपी की मदद से 35 लाख रुपए का बैग लेकर फरार हो गया. पटियाला के एसबीआई की जोनल शाखा से करीब 12  साल का एक लड़का किसी अन्य आरोपी की मदद से 35 लाख रुपए का बैग लेकर फरार हो गया.
 | 
a

Newz Fast,Punjab पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक घटना बुधवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे की है. जब एटीएम में पैसे लोड करने के लिए कैशियर ने बैंक की तिजोरी से पैसे निकाले थे.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक घटना बुधवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे की है.
एसएसपी दीपक पारीक ने कहा कि आरोपी का पता लगाने के लिए अलग-अलग टीमों का गठन किया है.
यह घटना उस समय हुई जब कर्मचारी और कैशियर मुख्य शाखा के बाहर एटीएम में नकदी भर रहे थे.

पंजाब के पटियाला शेरा वाला गेट पर एसबीआई की जोनल शाखा से करीब 12  साल का एक लड़का किसी अन्य आरोपी की मिलीभगत से 35 लाख रुपए का बैग लेकर फरार हो गया.

चोरी की इस घटना से पुलिस भी हैरत में पड़ गई है. चूंकि 35 लाख रुपए से भरा यह बैग कैशियर ने एटीएम में लोड़ करने के लिए रखा था, जिसकी जानकारी इस बालक को पहले से ही थी.

पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक घटना बुधवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे की है जब कैशियर ने बैंक की तिजोरी से पैसे एटीएम में लोड करने के लिए निकाले थे. जैसे ही वह कैश के बैग को केबिन के अंदर लावारिस छोड़ गया, एक लड़का अंदर चला गया और बैग ले उड़ा.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि वजन के कारण वह मुश्किल से चल पा रहा था. बाद में सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि बच्चे के साथ कथित तौर पर एक व्यक्ति भी था,

बैंक से बाहर निकलते ही उन्होंने एक ई-रिक्शा को रोका. पुलिस ने प्राथमिक जांच के बाद कहा है कि यह स्पष्ट है कि लड़के को बैग ले जाने के लिए प्रशिक्षित किया गया था.

उसने अपराध को पूरी तरह सफाई से अंजाम दिया. लड़का अच्छी तरह से जानता था कि बैग कहां है और बिना किसी संदेह के केबिन के अंदर चला गया.

बैंक अधिकारियों ने कहा कि यह घटना उस समय हुई जब कर्मचारी और कैशियर मुख्य शाखा के बाहर एटीएम में नकदी भर रहे थे. एक अधिकारी ने कहा कि आमतौर पर उन केबिनों में बिना अनुमति के किसी को जाने की इजाजत नहीं होती है.


बैंक कर्मियों की भूमिका की भी जांच
अधिकारी ने कहा कि मामले में कुछ अंदरूनी लोगों की भूमिका से इंकार नहीं किया जा सकता क्योंकि कैशियर ने बैग को केवल तीन से पांच मिनट के लिए लावारिस छोड़ दिया था.

हम दो कर्मचारियों से पूछताछ कर रहे हैं. पटियाला के एसएसपी दीपक पारीक ने कहा है कि आरोपी का पता लगाने के लिए अलग-अलग टीमों का गठन किया है. हमारे पास कुछ सुराग हैं और हम मामले को सुलझा लेंगे.