Newz Fast
BIG BREAKING राशिफल राष्ट्रीय खबर हरियाणा

मकर संक्रांति पर राजस्थान में है खास परंपरा, आप भी जानिए

There is a special tradition in Rajasthan on Makar Sankranti

Newz Fast, अजय राज मीना।

आज का दिन बहुत ख़ास है, क्योंकि आज मकर संक्रांति है। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक आज सूर्य देव सुबह 8 बजकर तीस मिनट पर धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं। जैसे ही सूर्य देव मकर राशि में प्रवेश करते हैं, मकर संक्रांति की शुरुआत हो जाती है। माना जाता है कि मकर संक्रांति के दिन पवित्र नदी में स्नान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। इस त्यौहार को देश में अनेक नामों से जाना जाता है। उत्तर भारत में मकर संक्रांति कहते हैं। वहीं दक्षिण भारत में इस त्यौहार का नाम ‘पोंगल’ रखा गया है, असम में इस त्यौहार को ‘बिहू’ के नाम से जाना जाता हैं।

There is a special tradition in Rajasthan on Makar Sankranti

संक्रांति से एक दिन पूर्व यानी 13 जनवरी को हरियाणा और पंजाब में लोहड़ी नाम से इसे मनाया जाता है। इस दिन अंधेरा होते ही लोग आग जलाकर उसमें तिल, गुड़, चावल और भुने हुए मक्के की आहुति देकर अग्नि देव की पूजा की जाती है। उत्तर प्रदेश में इसे ‘दान’ का पर्व माना जाता है। बिहार में मकर संक्रांति को ‘खिचड़ी’ नाम से जाना जाता है। बंगाल में इस त्यौहार पर तिल दान किए जाते हैं, वहीं महाराष्ट्र में इस दिन सभी  विवाहित महिलाएं अपनी पहली संक्रांति पर कपास, तेल व नमक आदी अन्य सुहागिन महिलाओं को दान करती हैं।

There is a special tradition in Rajasthan on Makar Sankranti

महत्व:

शास्त्रों के अनुसार “दक्षिणायन को देवताओं की रात्रि अर्थात नकारात्मकता का प्रतीक और उत्तरायण को देवताओं का दिन अर्थात सकारात्मकता का प्रतीक माना गया है।” इसलिए जप, तप, दान, स्नान, श्राद्ध तर्पण आदि धार्मिक क्रियाकलापों का विशेष महत्व दिया गया है। इस दिन शुद्ध घी और कंबल का दान मोक्ष की प्राप्ति करवाता है ऐसा श्लोक से प्रतीत होता है।

माघे मासे महादेव: यो दास्यति    घृतकम्बलम।स भुक्त्वा सकलान भोगान अन्ते मोक्षं प्राप्यति॥

There is a special tradition in Rajasthan on Makar Sankranti

बूंदी में अनूठी है परंपरा:

मकर संक्रांति के दिन लोग पतंग उड़ाते है, कांच की गोलियों से कंचा खेलते हैं, दान करके पुण्य कमाते हैं। लेकिन बूंदी में एक अनूठी ही परंपरा है एक निजी टीवी चैनल के अनुसार इस पर्व पर बूंदी जिले में पत्थर को टाट में लपेटकर बनाई गई 5 किलो वजनी बॉल से दड़ा खेला जाता है। यह अनूठा आयोजन करीब 800 वर्षों से चला आ रहा बताया जाता है।”

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके देशवासियों को मकर संक्रांति की शुभकामनाएं दी हैं उन्होंने लिखा ”

देशवासियों को मकर संक्रांति की बहुत-बहुत बधाई। मेरी कामना है कि उत्तरायण सूर्यदेव सभी के जीवन में नई ऊर्जा और नए उत्साह का संचार करें।

मकर संक्रांति गेटिंग्स टू एवरीवन।”

There is a special tradition in Rajasthan on Makar Sankranti

14 जनवरी 2021 को संक्रांति का त्यौहार सुबह 8:18 बजे से आरंभ कर सायं काल पर्यंत मनाया गया है। इस उत्सव पर 2021 में 14 जनवरी को प्रातः लगभग 8:18 बजे सूर्य के मकर राशि में आने से 14 जनवरी को मकर सक्रांति त्यौहार मनाया जाएगा तथा इसका पुण्यकाल संक्राति काल से आरम्भ होकर सूर्यास्त काल तक रहेगा।

Related posts

अंधविश्वास: पानी में डुबने से मासूम की हुई मौत, फ्लैट की छत पर रखी टंकी में मिला शव

Newz Fast

अंधभक्ती: रिपोर्ट नोर्मल आते ही आसाराम को भेजा जेल, भक्तों ने लगाई सिर पर मिट्टी, आप भी देखिए अस्पताल की वो फोटो

Newz Fast

हरियाणा के 17 जिलों में रहेगा इंटरनेट बंद, पड़ेगा बड़ा प्रभाव

Newz Fast

1 comment

Abhishek January 14, 2021 at 8:39 am

बढ़िया

Reply

Leave a Comment

Join Our Group