home page

कड़ी सुरक्षा के बीच ज्ञानवापी परिसर का सर्वे, इंतजामिया कमेटी ने नही सौपी तहखाने की चाबी, प्रशासन का अल्टीमेटम

कड़ी सुरक्षा के बीच काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी परिसर का सर्वे सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार दिवाकर के निर्देश पर शनिवार की सुबह शुरू हो गया है। सर्वे टीम एडवोकेट कमिश्नर के साथ कड़े सुरक्षा के बीच पहुंच चुकी है। दोपहर 12 बजे तक चलेगा सर्वे। इसके तहत विश्वनाथ धाम का मुख्य द्वार दर्शनार्थियों के लिए बंद कर दिया गया है। धाम के सामने किसी को खड़े होने तक की इजाजत नहीं है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है।
 | 
police

Newz Fast,New Delhi  फुलप्रूफ सुरक्षा इंतजामात के बीच शनिवार की सुबह काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी परिसर का सर्वे शुरू हो गया। कोर्ट के निर्देश के तहत जिला व पुलिस प्रशासन ने निर्विघ्न सर्वे के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं।

इसके तहत ज्ञानवापी परिसर के चारों तरफ 500 मीटर तक किसी का भी प्रवेश पूरी तरह से निषिद्ध कर दिया गया है। सुरक्षा के ऐसा कड़े इंतजाम है कि तकरीबन एक किलोमीटर की परिधि में डेढ़ हजार से भी अधिक पुलिस और पीएसी के जवान तैनात किए गए हैं। सर्वे दोपहर 12 बजे तक चलेगा। बता दें कि आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शहर में है।

 इंतजामिया कमेटी ने नही सौपी तहखाने की चाबी

- प्रशासन ने कुछ समय का दिया अल्टीमेटम

- चाभी देने का दिया अल्टीमेटम

- सर्वे टीम चाभी का कर रही है इंतजार

कोर्ट कमिश्नर व दो सहयोगियों सहित 36 लोग परिसर में

सर्वे के लिए एडवोकेट कमिश्नर अजय मिश्र, उनके दो सहयोगी और वादी-प्रतिवादी पक्ष के 36 लोग परिसर के अंदर पहुंच चुके हैं। बता दें कि कोर्ट ने सर्वे कराने का दायित्व वरिष्ठ अधिवक्ता अजय मिश्र को सौंपा है। उनके साथ स्पेशल कमिश्नर और असिस्टेंट कमिश्नर भी हैं।

मैदागिन और गोदौलिया से ज्ञानवापी मार्ग पर यातायात बाधित
बता दें कि कोर्ट ने आदेश दिया है कि 17 मई के पहले सर्वे होगा, जिसके बाद कोर्ट में सर्वे रिपोर्ट की पेशी की जाएगी। ऐसे में ज्ञानवापी परिसर स्थित शृंगार गौरी मंदिर व अन्य देव विग्रहों के सर्वे को लेकर जिला प्रशासन की तरफ से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। इसके तहत सुरक्षा की दृष्टि से मैदागिन चौराहे से बैरिकेडिंग करके रास्ते को रोक दिया गया है। वहीं गोदौलिया चौराहे से भी बैरिकेडिंग कर यातायात पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया गया है। पैदल आने-जाने वालों को भी रोका जा रहा है। बता दें यही वह दो तरफ के रास्ते हैं जिनसे होकर आदमी चौक बाद फाटक होते हुए विश्वनाथ मंदिर ज्ञानवापी तक जाता है, तो दूसरी तरफ मैदागिन से बुलानाला सूड़िया होते हुए व्यक्ति विश्वनाथ मंदिर तक पहुंचता है