CWG 2022: किसान के बेटे अविनाश साबले ने रचा इतिहास, 3 हजार मीटर स्टीपलचेज रेस में जीता सिल्वर मेडल

13 सितंबर 1994 को महाराष्ट्र के बीड जिले के मांडवा गांव में जन्में अविनाश साबले ने नेशनल रिकॉर्ड तोड़कर ये मेडल अपने नाम किया है।

 | 
avinash sable

Newz Fast, New Delhi 10,000 मीटर पैदल चाल में प्रियंका के सिल्वर मेडल के बाद स्टीपलचेजर अविनाश साबले (Avinash Sable) ने 3000 मीटर रेस में सिल्वर मेडल जीत लिया है।

13 सितंबर 1994 को महाराष्ट्र के बीड जिले के मांडवा गांव में जन्में अविनाश साबले ने नेशनल रिकॉर्ड तोड़कर ये मेडल अपने नाम किया है।

उन्होंने सिल्वर मेडल जीतने के लिए 8:11:20 का समय निकाला।  कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games 2022) के नौवें दिन भारत का ये दूसरा मेडल है। 

किसान के बेटे हैं अविनाश साबले

अविनाश साबले (Avinash Sable) भारतीय सेना में कार्यरत ट्रैक एंड फील्ड एथलीट हैं ,जो 3000 मीटर स्टीपलचेज इवेंट में भाग लेने के लिए प्रसिद्ध हैं।

अविनाश (Avinash Sable) के पिता का नाम मुकुंद साबले और भाई का नाम योगेश साबले है। इनके पिता एक किसान हैं। अविनाश ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा गांव के गवर्नमेंट स्कूल से प्राप्त की और पुणे से अपना ग्रेजुएशन पूरा किया।

JCO के पद पर नियुक्त हैं अविनाश

वर्तमान में अविनाश अपने परिवार के साथ बेंगलुरु में रह रहे हैं। वर्ष 2011 में 12वीं पास करने के बाद इन्होंने आर्मी जॉइन कर ली थी और वहीं से यह स्पोर्ट्स में हिस्सा लेने लगे।

साल 2015 में आर्मी सर्विस टीम के लिए उन्होंने क्वालीफाई कर लिया।

2 साल बाद 2017 में क्रॉस कंट्री चैंपियनशिप में उन्होंने हिस्सा लिया जिसके बाद उन्होंने लगातार खेलों में हिस्सा लेकर अच्छा प्रदर्शन किया। वर्तमान में अविनाश आर्मी में जूनियर कमीशंड ऑफिसर(JCO) के पद पर नियुक्त हैं।