home page

खुशखबरी- दिव्यांगों को मिलेगा मौका, 15 हजार पदों पर होगी स्पेशल भर्ती

Newz Fast, Haryana दिव्यांग कमीशनर राजकुमार मक्कड़ ने कहा कि एक जनवरी 1996 से जिन दिव्यांगों की प्रमोशन, सैलेरी, ग्रेच्युटी का लाभ दिया जाना है, उसके लिए भी नीति बनाई गई हैं। आगामी बजट सत्र में इसके लिए बजट में भी प्रावधान किया जाना निश्चित किया गया है। इसको लेकर मुख्यमंत्री ने अपनी सहमति दे दी है।

 | 
nokri

हरियाणा में नौकरी का इंतजार कर रहे दिव्यांगों के लिए एक बंपर भर्ती का आयोजन करवाया जाएगा। इसके तहत लगभग हरियाणा सरकार के 81 विभागों, निगम व विश्ववद्यिालयों में बैकलॉग के 15 हजार पद राज्य सरकार द्वारा स्पेशल ड्राईव के जरिए भरे जाएंगे। यह बात हरियाणा दिव्यांग आयुक्त राजकुमार मक्कड़ ने भिवानी में पत्रकार वार्ता के दौरान कही।

उन्होंने बताया कि इसके लिए राज्य सरकार ने नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है तथा विभिन्न विभागों, बोर्ड व विश्वविद्यालयों से रिक्तियों की संख्या एसएससी व एचपीएससी द्वारा मांगी गई है। 

पत्रकार वार्ता के दौरान दिव्यांग कमीशनर ने कहा कि दिव्यांगों को सामान्य लोगों के समकक्ष खड़ा करने के उद्देश्य से राज्य सरकार ने यह दिव्यांगों के हक में एक बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत 31 मार्च 2022 तक सभी विभागों से रिक्तियों की वास्तविक संख्या ले ली जाएगी। वर्ष 1996 से 2022 तक लगभग 15 हजार पदों को भरे जाने को लेकर यह स्पेशल ड्राईव आयोजित होगी।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा दिव्यांगों के लिए चलाई जाने वाले इस स्पेशल अभियान के तहत क्लास ए व बी वर्ग की भर्तियों में 10 वर्ष की आयु में छूट तथा ग्रुप सी व डी में 15 वर्ष आयु वर्ग में छूट दी जाएगी। उन्होंने कहा कि दिव्यांगों को तीन प्रतिशत आरक्षण नौकरियों में व प्रमोशन में दिया गया है। जिसकी पालना के लिए यह विशेष ड्राईव चलाई जाएगी। 

दिव्यांग कमीशनर राजकुमार मक्कड़ ने कहा कि एक जनवरी 1996 से जिन दिव्यांगों की प्रमोशन, सैलेरी, ग्रेच्युटी का लाभ दिया जाना है, उसके लिए भी नीति बनाई गई हैं। आगामी बजट सत्र में इसके लिए बजट में भी प्रावधान किया जाना निश्चित किया गया है। इसको लेकर मुख्यमंत्री ने अपनी सहमति दे दी है।

इस योजना से जहां 15 हजार दिव्यांगों को नौकरी मिलेगी, वही पांच हजार दिव्यांग कर्मचारियों को प्रमोशन, सैलेेरी, गु्रजुएटी आदि का लाभ मिल पाएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य में दिव्यांग वेलफेयर के लिए जहां 38 करोड़ रूपये का बजट था, उसे वर्ष 2022-23 के लिए 75 करोड़ रूपये करने का निर्णय भी लिया गया है।