home page

पांच बार हुईं असफल, नहीं मानी हार, छठवें प्रयास में नुपूर ने किया IAS बनने का सपना साकार, पढ़िए नुपूर की सफलता की कहानी

Newz Fast, New Delhi  आज आपको दिल्ली की रहने वाली नूपुर गोयल की कहानी बताएंगे, जिन्हें यूपीएससी में सफलता मिलने में 6 साल का वक्त लग गया।
 | 
IAS Nupur

 आज आपको दिल्ली की रहने वाली नूपुर गोयल की कहानी बताएंगे, जिन्हें यूपीएससी में सफलता मिलने में 6 साल का वक्त लग गया। इस सफर के दौरान उन्होंने कई चुनौतियों का सामना किया और उनका डटकर मुकाबला किया।रिश्तेदारों ने उनको ताने भी मारे,

लेकिन परिवार वालों का सपोर्ट मिला और इससे उन्हें मोटिवेशन मिला। आखिरकार उन्होंने अपनी गलतियों को सुधारा और सफलता प्राप्त कर ली।

कैसा रहा शुरुआती सफर 

नूपुर गोयल मूल रूप से दिल्ली की रहने वाली हैं और वे पढ़ाई में काफी होशियार थीं। इंटरमीडिएट के बाद उन्होंने दिल्ली के टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की। उसके बाद उन्होंने इग्नू से मास्टर डिग्री हासिल की। 

उनका हमेशा से ही यूपीएससी में जाने का सपना था और इसके लिए वे काफी लंबे समय से तैयारी कर रही थीं। कई बार वे असफल हुईं, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और आखिरकार अपना सपना पूरा किया।

परिवार का मिला समर्थन 

जब यूपीएससी में कई बार असफलता मिली तो लोगों ने ताने मारने शुरू कर दिए। हालांकि इस दौरान उनके परिवार के लोगों ने सहयोग किया और उन्हें आगे तैयारी करने के लिए मोटिवेट किया।

 नूपुर कहती हैं कि यूपीएससी का सपना सिर्फ कैंडिडेट का नहीं, बल्कि पूरे परिवार का होता है। ऐसे में जितना मजबूत आपका सपोर्ट सिस्टम होगा, उतनी ही आपकी सफलता के चांस बढ़ जाएंगे।

दूसरे कैंडिडेट्स को नूपुर की सलाह 

नूपुर गोयल कहते हैं कि यूपीएससी में जाने से पहले यह तय करें कि आपको इस क्षेत्र में क्यों जाना है। अपनी वजह को लिखकर अपनी टेबल पर टांग लें। जब भी आप अपनी वजह को देखेंगे तो उससे मोटिवेशन मिलेगा। नूपुर कहती हैं कि कभी भी आपको असफलताओं से नहीं घबराना चाहिए और खुद पर भरोसा रखना चाहिए। 

आपको अपने परिवार का साथ मिलेगा तो आप और भी बेहतर करने के लिए प्रेरित होंगे। आप यूपीएससी की तैयारी के लिए रणनीति बनाएं और उसमें जुट जाएं। जब भी आपको सफलता मिले तो उसके बाद यह जरूर देखें कि कोई कमी कहां रह गई। दूसरे प्रयास में अपनी कमियों को सुधारें और बेहतर करें।