home page

UPSC के लिए कोचिंग जरूरी नहीं! AIR-70 रैंक लाने वाली सलोनी से जानें Preparation Tips

Newz Fast, New Delhi कोचिंग के बजाय सेल्फ स्टडी करने का फैसला किया. फर्स्ट अटेम्प्ट में असफल होने के बाद सलोनी निराश नहीं हुईं और उन्होंने दूसरा अटेम्प्ट दिया, यहां उन्हें सफलता मिल गई. 
 | 
ias saloni

UPSC एग्जाम क्लीयर करने में कई अभ्यर्थियों को सालों की मेहनत लग जाती है, वहीं कई अभ्यर्थी ऐसे भी होते हैं जो पहले-दूसरे ही अटेम्प्ट में एग्जाम क्लीयर कर दिखाते हैं. ऐसा ही कुछ कर दिखाया UPSC CSE- 2020 में AIR-70 लाने वाली सलोनी वर्मा (Saloni Verma) का, उन्होंने इंटरनेट की हेल्प और सेल्फ स्टडी से एग्जाम क्लीयर कर दिखाई. यहां जानें उन्होंने UPSC प्रिपरेशन के लिए क्या टिप्स दीं. 

इस तरह शुरू की प्रिपरेशन
सलोनी झारखंड के जमशेदपुर से आती हैं, लेकिन वह दिल्ली में रहकर बढ़ी हुईं. ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने UPSC से ही तैयारी करने का फैसला लिया. प्रिपरेशन को लेकर उनके सामने परेशानी खड़ी हुई, लेकिन उन्होंने कोचिंग के बजाय सेल्फ स्टडी करने का फैसला किया. फर्स्ट अटेम्प्ट में असफल होने के बाद सलोनी निराश नहीं हुईं और उन्होंने दूसरा अटेम्प्ट दिया, यहां उन्हें सफलता मिल गई. 

UPSC के लिए अपनाई ये स्ट्रेटजी 
UPSC के लिए प्रिपरेशन  स्ट्रेटजी बनाने के दौरान उन्होंने सबसे पहले अपने पोटेंशियल और इंटरेस्ट को जान कर स्टडी मटेरियल तैयार किया. स्टडी मटेरियल के हिसाब से ही उन्होंने प्लानिंग बनाई और अपने प्लान पर काम किया, टॉपर्स के इंटरव्यू और ब्लॉग भी हेल्पफुल रहे. 

कोचिंग जरूरी नहीं
सलोनी कहती हैं कि UPSC प्रिपरेशन के लिए कोचिंग जरूरी नहीं है, कड़ी मेहनत और सेल्फ स्टडी के दम पर अभ्यर्थी सफलता हासिल कर सकते हैं. अभ्यर्थी जब तक हर दिन मंजिल तक पहुंचने की कोशिश नहीं करेंगे तब तक वे उनकी मंजिल हासिल नहीं कर सकेंगे. मेहनत और प्लानिंग के साथ ही रिवीजन, आंसर राइंटिंग की प्रैक्टिस और पॉजिटिव अप्रोच से सफलता हासिल की जा सकती है.