home page

ग्राम सचिव, कैनाल पटवारी, महिला सुपरवाइजर, कानूनगो समेत 5000 पदों की भर्तियों पर आया बड़ा फैसला

Newz Fast, Haryana हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने बताया कि अब जो भी परीक्षाएं होंगी, वह सीईटी के तहत ही होंगी। जो परीक्षार्थी सीईटी की परीक्षा पास करेगा वही आगामी विभागीय परीक्षा में बैठने के लिए काबिल होगा। 
 | 
hssc

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (एचएसएससी) ने मंगलवार को ग्राम सचिव, पटवारी, कैनाल पटवारी, कानूनगो, नायब तहसीलदार समेत महिला सुपरवाइजर की भर्तियों को रद्द कर दिया है। अब ये भर्तियां नए सिरे से होंगी और इसके लिए संयुक्त भर्ती परीक्षा (सीईटी) पास करनी होगी। सीईटी पास करने वाले अभ्यर्थी ही विभागीय परीक्षा में बैठ सकेंगे। 

आर्थिक सामाजिक आधार के लाभ को भी 10 अंको के बजाय हटाकर पांच कर दिया गया है। सरकार की ओर से यह भी फैसला लिया गया कि जो लड़की विवाहित है उसका परिवार मायका ना मानकर ससुराल पक्ष माना जाएगा। एचएसएससी की ओर से ग्राम सचिव, पटवारी, कैनाल पटवारी, कानूनगो, नायब तहसीलदार समेत महिला सुपरवाइजर की भर्तियों के माध्यम से करीब पांच हजार पद भरे जाने थे। 

बकायदा इन भर्तियों का शेड्यूल भी जारी कर दिया गया था। अब इन सभी भर्तियों को रद्द करने का फैसला लिया है। आयोग की ओर से सभी विज्ञापित पदों को विभागों वापस भेज दिया है। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने बताया कि अब जो भी परीक्षाएं होंगी, वह सीईटी के तहत ही होंगी। जो परीक्षार्थी सीईटी की परीक्षा पास करेगा वही आगामी विभागीय परीक्षा में बैठने के लिए काबिल होगा। 

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग हाल फिलहाल में 5500 पुरुष सिपाही भर्ती की प्रक्रिया में लगा हुआ है। भर्ती के लिए होने वाली दौड़ के उपरांत उम्मीदवारों के शारीरिक मापतोल और दस्तावेजों की जांच प्रक्रिया लगातार चल रही है। आयोग द्वारा ली जाने वाली बायोमेट्रिक- वीडियोग्राफी तथा सीसीटीवी की फुटेज के माध्यम से इस भर्ती में लगातार बड़ी मात्रा में फर्जी उम्मीदवार सामने आ रहे हैं।

अभी तक ऐसे 102 उम्मीदवारों की पूरी सूची तथा विवरण आयोग ने पुलिस विभाग को सौंप दिया है। पुलिस विभाग द्वारा मामले की गंभीरता और प्रदेश सरकार के सख्त आदेशों के कारण ऐसे फर्जी उम्मीदवारों को भी काबू कर लिया गया है।