मां की एक सलाह ने बदल दी अनुज मलिक की लाइफ, पहले ही प्रयास में बनीं IAS अफसर, पढ़िए अनुज की सफलता की कहानी

Newz Fast, New Delhi अपनी मां की सलाह के बाद अनुज मलिक ने मनोविज्ञान विषय को चुना और अपनी तैयारी को शुरू कर दिया। इसके बाद उन्होंने अपने पहले प्रयास में सिविल सेवा परीक्षा 2016 में 16वीं रैंक हासिल की।

 | 
IAS

यूपीएससी एग्जाम में हर साल लाखों कैंडिडेट्स भाग लेते हैं। इस एग्जाम के लिए बहुत से कैंडिडेट्स कई साल तैयारी करते हैं। कई बार IAS ऑफिसर बनने में सालों लग जाते हैं। पर कुछ कैंडिडेट्स इस एग्जाम को पहले ही प्रयास में पास कर लेते हैं।

इनमें से एक हैं अनुज मलिक दिल्ली के रहने वाले अनुज मलिक एक आईएएस ऑफिसर हैं। उन्होंने अपने पहले ही प्रयास में UPSC Exam में सफलता प्राप्त कर ली थी। उनकी कड़ी मेहनत, समझदारी से उन्होंने यह मुकाम हासिल किया।

पहले बनीं इंजीनियर

दिल्ली के लाजपत की रहने वाली अनुज मलिक ने अपनी स्कूली शिक्षा दिल्ली स्थित एयरफोर्स बाल भारती स्कूल से पूरी की है। इसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग किया और इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन में बीटेक की डिग्री हासिल की।

इंजीनियरिंग के बाद UPSC

बीटेक के अंतिम वर्ष के दौरान अनुज मलिक ने सिविल सर्विस में जाने का फैसला किया और साल 2015 में इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद यूपीएससी एग्जाम की तैयारी शुरू की। इसके लिए उन्होंने एक साल तक घर पर रहकर ही पढ़ाई की।

मां की एक सलाह ने बदली लाइफ

अनुज मलिक बताती हैंतैयारी के लिए उन्हें विषय चुनना एक कठिन चुनौती थी। उन्होंने विषय के रूप में मनोविज्ञान को चुना। उनके चुने विषय पर कई लोगों ने आपत्ति की और चुने जाने की संभावनाओं पर भी सवाल किए।

परंतु उनकी मां ने उनका हौसला बढ़ाया। उन्होंने अनुज से कहा कि आप पहली बार एग्जाम देने जा रही हो इस लिए घबराने की जरूरत नहीं है। यदि तुम्हें लिए हुए विषय में रुचि है तो इसे मत बदलो। 

अपनी मां की सलाह के बाद अनुज मलिक ने मनोविज्ञान विषय को चुना और अपनी तैयारी को शुरू कर दिया। इसके बाद उन्होंने अपने पहले प्रयास में सिविल सेवा परीक्षा 2016 में 16वीं रैंक हासिल की।

पति भी हैं आईएएस अफसर

अनुज मलिक के माता-पिता भी सरकारी सेवा में हैं। उनके पिता दिल्ली विकास प्राधिकरण में काम करते हैं और मां दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) में कार्यरत हैं। अनुज के पति गौरव सिंह सोगरवाल भी आईएएस हैं और गोरखपुर में ही सदर तहसील के एसडीएम के पद पर तैनात हैं।

काम को लेकर चर्चा में रहती हैं अनुज

अनुज मलिक वर्तमान में उत्तर प्रदेश के खजनी में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट और एसडीएम हैं। वह हमेशा अपने काम को लेकर चर्चा में रहती हैं और पिछले साल लॉकडाउन के दौरान उन्होंने मानवता की मिसाल पेश की थी। अनुज ने लॉकडाउन के दौरान नंगे पांव चल रहे प्रवासी मजदूरों को चप्पल मुहैया कराई थी, जिसके बाद सोशल मीडिया पर उनकी जमकर तारीफ हुई थी।