home page

प्रेग्नेंसी के बाद खराब हो गया था 90Kg की इस मॉम का फिगर, सिंपल डाइट से घटाया 35Kg वजन

दिल्ली की रहने वाली होम मेकर प्रियंका सोनी गर्भावस्था के बाद 90 किलो की हो गई थीं। उन्होंने रेगुलर वर्कआउट के साथ डाइट में बदलाव कर मात्र 8 महीने में 35 किलो वजन घटा लिया।
 | 
8month m 35 kilo weight gtaya

Newz Fast, New Delhi प्रेग्नेंसी के बाद खराब हो गया था 90Kg की इस मॉम का फिगर, सिंपल डाइट से घटाया 35Kg वजन ज्यादातर महिलाओं की तरह प्रियंका सोनी ने बच्चे को जन्म देने के बाद बहुत अधिक वजन बढ़ा लिया था।

26 की उम्र में 90 किलो वजन होना किसी भी महिला के लिए चिंता की बात है। नई मां के रूप में अपनी जिम्मेदारियों में इतनी व्यस्त हो गई थीं कि उनके पास खुद के लिए समय नहीं था।

उनका आत्मविश्वास कम होने लगा था और जब तक वह कुछ सोच पाती, वजन जरूरत से ज्यादा बढ़ चुका था।

आखिरकार गर्भावस्था के बाद शेप में आने के लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की और अपने लिए समय निकालने के लिए भी उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ा।

सही डाइट और वर्कआउट से उन्होंने सिर्फ 8 महीने में 35 किलो वजन कम कर लिया। तो आइए जानते हैं कि कैसे इस यंग मदर ने सिर्फ 8 महीनों में 35 किलो वजन घटा लिया।

नाम- प्रियंका सोनी
व्यवसाय- होममेकर
उम्र- 27 साल
शहर- दिल्ली
सबसे ज्यादा रिकॉर्ड किया वजन- 90 किलो
वजन कम किया- 35 किलो
वजन कम करने में लगने वाला समय- 8 महीने

​टर्निंग पॉइंट कब आया-
प्रियंका का कहना है कि गर्भावस्था के बाद मेरा वजन काफी बढ़ गया था। एक साल के बच्चे के साथ खुद को समय नहीं दे पाई और मेरा वजन बढ़कर 90 किलो हो गया।

मात्र 26 साल की उम्र में 90 किलो वजन होना मेरे लिए बहुत शॉकिंग था। मुझे तो जैसे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था। मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरी सारी एनर्जी ही खत्म हो गई है।

साथ ही एक नई मां के रूप में मेरी जिम्मेदारियां भी बढ़ गई थी, तभी मैंने डिलीवरी के बाद बढ़े हुए वजन को कम करने का फैसला किया। मेरे फिट होने और वजन कम करने का यही टर्निंग पॉइंट था।

कैसी रही डाइट

नाश्ता-
दलिया
दोपहर का भोजन-
सब्जी वाला बेसन का चीला, सलाद और दही के साथ
रात का खाना-
वेज पनीर टिक्का और सलाद
प्री-वर्कआउट मील-
नारियल पानी के साथ एक सेब
पोस्ट वर्कआउट मील-
कम चिकनाई वाला पनीर टिक्का
लो कैलोरी रेसिपी-
स्टीम्ड ढोकला, इडली, पोहा, सेवईं।
​वर्कआउट और फिटनेस रिजाइम

प्रियंका बताती हैं कि मैंने वजन घटाने के लिए स्ट्रेंथ ट्रेनिंग ओर कार्डियो वर्कआउट

पर सबसे ज्यादा फोकस किया। उनके अनुसार फिट होने के लिए निरंतरता जरूरी है। वहीं पोर्शन कंट्रोल भी आपके आहार को नियंत्रण में रखने में मदद कर सकता है। आप जो कुछ भी खाते हैं, समझदारी से उसका चुनाव करना भी बहुत जरूरी है।

​खुद को मोटिवेट कैसे रखा-

प्रियंका कहती हैं कि वेटलॉस जर्नी का सबसे कठिन हिस्सा खुद को हर वक्त प्रेरित रखना है। हर दिन मैं उठकर सबसे पहले खुद को आईने में देखती थी।

बेबी होने के बाद बढ़े हुए वजन ने जहां मुझे निराश किया, वहीं मैं मोटिवेट भी हुई। एक बार जब रिजल्ट मिलना शुरू हो जाए, तो यह आपके लिए सबसे बड़ा मोटिवेश्नल बूस्टर है।

​मोटापे के कारण किन समस्याओं का सामना करना पड़ा-

प्रियंका के अनुसार, मोटापे के कारण मेरा आत्मविश्वास बहुत कम हो गया था। हालात यह थे कि मैंने खुद का ख्याल रखना ही छोड़ दिया था। मैंने परवाह करना भी छोड़ दी थी कि मैं कैसी दिखती हूं और क्या पहनती हूं। मैं इस दौरान काफी डल महसूस करने लगी थी।

​वजन घटाने से क्या सीख मिली

प्रियंका के मुताबिक , वेटलॉस एक ऐसी जर्नी है, जो हमें धैर्य और निरंतरता सिखाती है। यह न केवल आपके शरीर को अच्छा महसूस कराती है , बल्कि इससे मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार होता है।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

प्रियंका बताती हैं कि वजन घटाने के लिए अपनी लाइफस्टाइल में दो मुख्य बदलाव किए। पहला स्वस्थ खाना और दूसरा स्ट्रेस मैनेज करना। सबसे जरूरी बात यह कि मैंने खुद को प्राथमिकता देना शुरू कर दी थी।