home page

ब्लड शुगर तेजी से करना है कम, तो रोज करें लिंग-मुद्रा का अभ्यास, नेचुरली बढ़ेगी इंसुलिन

अगर आपका ब्लड शुगर हाई हो रहा या आप डायबिटीज के मरीज हैं तो आपको नुचरली अपने ब्लड में इंसुलिन को बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए। इसके लिए लिंगमुद्रा सबसे प्रभावी है
 | 
b

Newz Fast,New Delhi अगर आप डायबिटीज में खानपान पर विशेष ध्यान दें और एक्सरसाइज करें तो आपका शुगल लेवल कंट्रोल रह सकता है। हालांकि, कई बार कुछ अन्य कारणों या बीमारियों में ब्लड शुगर कंट्रोल करना बेहद मुश्किल होता है, लेकिन यहां आज आपको एक ऐसी हस्त मुद्रा के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आसानी से आपके ब्लड शुगर को कंट्रोल कर इंसुलिन को बढ़ाते हैं।

थकान, कमजोर इम्यूनिटी, बार-बार यूरिन आना या प्यास लगाना या फोड़े फुंसी का ठीक न होना आदि लक्षण ब्लड शुगर के बढ़ने पर नजर आते हैं। ब्लड शुगर जब लंबे समय तक अनकंट्रोल होता है तब ये डायबिटीज में बदल जाता है। तो चलिए जानें लिंगमुद्रा का अभ्यास कैसे करें और इससे और किन रोगों में लाभ मिलता है।

लिंगमुद्रा क्या है? (what is ling mudra)
लिंगमुद्रा एक हस्त मुद्रा है जिसमें दोनों हथेलियों को इंटरलॉक कर ध्यान लगाया जाता है। ये मुद्रा ब्लड सकुग्लेशन बढ़ाने के साथ ही इंसुलिन के प्रवाह को भी ब्लड में बढ़ाती है। इसमें अंगूठे पर ध्यान केंद्रित किया जाता है और अंगूठा शरीर में अग्नि तत्व का प्रतीक माना जाता है। लिंगमुद्रा अग्नि तत्व को मजबूत करती है इससे ब्लड से जुड़ी समस्याएं दूर होती हैं।

यह ध्यान मुद्रा भी होती है। इस योग को करने से तन, मन और शरीर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। यह मन को शांत करने में मदद करता है। लिंगमुद्रा करने से ऊर्जा का संचार होता है। सर्दी, जुकाम में भी ये अभयास फायदेमंद है।

कैसे करें लिंगमुद्रा -How to do ling mudra

1. लिंगमुद्रा सबसे आसान तरीके से की जा सकती है। इसके लिए आप किसी शांत जगह पर जमीन पर बैठ जाएं।
2. संभव हो तो सिद्धासन में बैठें अन्यथा जो भी पोजिशन आपको सही लगे उसमें बैठ जाएं।
3. आंखों को बंद कर सांसों पर ध्यान केंद्रित करें।
4. इसके बाद अपने बाएं हाथ को पेट के पास लाएं और उस पर दाएं हाथ को मुट्ठी बांधकर रख दें।
5. अब अपने अंगूठे को एकदम सीध में रखें। इस पर ध्यान केंद्रित करें।
6. इस मुद्रा में आप 10-15 मिनट तक रह सकते हैं।
7. लिंगमुद्रा को जब भी आप चाहे कर सकते हैं। इसके लिए समय की कोई पाबंदी नहीं है।

लिंगमुद्रा के फायदे (Ling mudra benefits)
लिंगमुद्रा शरीर में ऊष्मा और ऊर्जा का संचार करता है, इसलिए इसे ऊष्मा और ऊर्जा की मुद्रा भी कहा जाता है। लिंगमुद्रा शरीर में गर्मी, ऊष्मा को बढ़ाने में मदद करती है। सर्दी के मौसम में लिंगमुद्रा करना अधिक लाभदायक होता है, क्योंकि यह शरीर में ऊष्मा या गर्मी को बढ़ाता है।

1. सांस से संबंधित बीमारियों में फायदेमंद
स्वास्थ्य को लिंगमुद्रा के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। लिंगमुद्रा श्वसन तंत्र के लिए काफी अच्छी मुद्रा है। यह सांस से संबंधित रोगों और अस्थमा की समस्याओं से भी बचाव करता है। लिंगमुद्रा का नियमित अभ्यास करने से गले में जमा कफ आसानी से निकल जाता है। इसे करने से खांसी की समस्या से भी छुटकारा मिलता है। यह फेफड़ों को भी मजबूत बनाता है।