home page

रेलवे में गार्ड का बदल गया नाम, गाड़ियों के हिसाब से पदों का नाम हुए तय, यहां देखें

Newz Fast, New Delhi रेलवे बोर्ड (Railway board) ने नए साल में रेलवे में कार्यरत गार्ड पद के कर्मचारियों को तोहफा भेंट किया है. बोर्ड के ताजा फैसले के मुताबिक, ट्रेन के गार्ड अब ट्रेन मैनेजर (railway guard new designation) कहलाएंगे.
 | 
Railway Gaurd

बोर्ड ने कहा कि गार्ड (railway guard) शब्द सम्मान सूचक नहीं था. बता दें कि बीते नवंबर 2021 में रेलवे बोर्ड ने इसको लेकर अपनी सैद्धांतिक मंजूरी दे दी थी. 

ट्रेनों की कैटेगरी के मुताबिक अब ये होगा गार्ड पद का नया नाम

असिस्टेंट गार्ड अब असिस्टेंट पैसेंजर ट्रेन मैनेजर कहलाएंगे. इनका ग्रेड पे और लेवल Rs 1900, PB-1, L-2 है

गुड्स गार्ड अब गुड्स ट्रेन मैनेजर कहलाएंगे. इनका ग्रेड पे और लेवल Rs 2800, PB-2, L-5 है.

सीनियर गुड्स गार्ड अब सीनियर गुड्स ट्रेन मैनेजर कहलाएंगे. इनका ग्रेड पे और लेवल Rs 4200, PB-2, L-6 है.

सीनियर पैसेंजर गार्ड अब सीनियर पैसेंजर ट्रेन मैनेजर कहलाएंगे. इनका ग्रेड पे और लेवल Rs 4200, PB-2, L-6 है.

मेल/एक्सप्रेस गार्ड अब मेल/एक्सप्रेस ट्रेन मैनेजर कहलाएंगे. इनका ग्रेड पे और लेवल भी Rs 4200, PB-2, L-6 है.

रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में सभी जोन के जीएम को लेटर जारी कर दिया है. इस फैसले के बाद देशभर में रेलवे में काम कर रहे गार्ड का पद अब बदलने जा रहा है. बोर्ड के इस फैसले को गार्ड को दिए गए एक सम्मान के तौर पर देखा जा रहा है. 

साल 1853 में मुंबई से ठाणे के बीच पहली ट्रेन सेवा शुरू हुई थी. माना जाता है कि तभी ब्रिटिश हुकूमत ने रेलवे गार्ड पदनाम दिया था.

ट्रेन के सबसे पिछले डिब्बे में मौजूद रेलवे कर्मचारी को ट्रेन गार्ड नाम से पुकारा जाता था. ट्रेन में बैठे हजारों रेल यात्रियों की सुरक्षा और सलामती की जिम्मेदारी एक तरह से उस ट्रेन में मौजूद गार्ड पर होती है.