home page

सुकन्या समृद्धि योजना वालो को 1 जुलाई से सरकार देने वाली है ये बड़ी सौगात, देखे

सुकन्या  समृद्धि योजना का लाभ लेने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। इस 1 जुलाई से केंद्र सरकार बचत योजना पर ब्याज दरों में जबरदस्त बढ़ोतरी कर सकती है।
 | 
ds

Newz Fast, New Delhi हम भविष्य के लिए बचत खातों में निवेश करते है, ताकि जरूरत के समय हमे उसका लाभ मिल सके। अगर आपने एनएससी , पीपीएफ और सुकन्या समृद्धि योजनाओं जैसी बचत योजना में निवेश किया है तो आपके लिए बड़ी खुशखबरी है। 

1 जुलाई, 2022 से इन स्कीमों पर जबरदस्त रिटर्न मिलने वाला है. दरअसल, 1 जुलाई से केंद्र सरकार अपनी पीपीएफ और सुकन्या समृद्धि जैसी बचत योजना पर ब्याज दरों में जबरदस्त बढ़ोतरी कर सकती है.

गौरतलब है कि वित्त मंत्रालय हर तिमाही के शुरू होने से पहले सरकारी बचत योजनाओं के ब्याज दरों की समीक्षा कर उसकी घोषणा करता है. ऐसे में यह उम्मीद जताई जा रही है,

कि 1 जुलाई, 2022 से वित्त मंत्रालय सरकार की बचत योजनाओं पर 0.50 से लेकर 0.75 फीसदी तक ब्याज दरें बढ़ाने की घोषणा कर सकती है. 

बचत योजनाओं पर बढ़ेंगी ब्याज दरें!

दरअसल, आरबीआई ने जबसे रेपो रेट में 0.90 फीसदी बढाया उसके बाद कई बैंकों ने डिपॉजिट्स पर ब्याज दरों को बढ़ा दिया है. ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि 1 जुलाई से इन सरकारी बचत योजनाओं पर भी ब्याज दरों को बढ़ाया जा सकता. 

इस समय पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (PPF) पर 7.1 फीसदी सलाना ब्याज दर मिलता है, जबकि NSC पर 6.8 फीसदी सलाना ब्याज मिल रहा है.

सुकन्या समृद्धि योजना पर फिलहाल 7.6 फीसदी और सीनियर सिटीजन टैक्स सेविंग स्कीम ( Senior Citizen Saving Scheme) पर 7.4 फीसदी ब्याज मिल रहा है. 

इसके अलावा किसान विकास पत्र ( Kisan Vikas Patra) पर 6.9 फीसदी ब्याज मिल रहा है. अब लोगों को उम्मीद है कि सरकार जुलाई से इन योजनाओं पर ब्याज बढ़ा सकती है.

अप्रैल 2020 से नहीं हुआ बदलाव 

साल 2020-21 की पहली तिमाही के बाद से छोटी बचत योजनाओं के ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है. 

इससे पहले वित्त मंत्रालय ने एक अधिसूचना में कहा, वित्तीय वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही के लिए विभिन्न लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर, 

1 अप्रैल, 2022 से शुरू होकर 30 जून, 2022 को समाप्त होने वाली, चौथी तिमाही (जनवरी) के लिए लागू वर्तमान दरों से अपरिवर्तित रहेगी.' आपको बता दें कि छोटी बचत योजनाओं के लिए ब्याज दरें तिमाही आधार पर संशोधित की जाती है.