home page

गुना कांड ने दिला दी कुख्यात तस्कर वीरप्पन की याद, गिरफ्तार करने वाले अधिकारी की हत्या कर सिर के साथ खेला था फुटबॉल

एमपी के गुना में शनिवार तड़के काले हिरण के शिकारियों ने जिस तरह तीन पुलिसकर्मियों की हत्या की, उससे कुख्यात तस्कर वीरप्पन की यादें ताजा हो गईं।
 | 
4kale hiran ka sekar

Newz Fast, M.P कई दर्जन पुलिसकर्मियों की जान लेने वाले वीरप्पन को पहली बार भारतीय वन सेवा के अधिकारी पी श्रीनिवास ने गिरफ्तार किया था। बदले में वीरप्पन ने उनका सिर काटकर उसके साथ फुटबॉल खेला था।

 गुना में शिकारियों ने तीन पुलिसकर्मियों की कर दी हत्याकरीब तीन दशक तक सुरक्षाबलों के लिए चुनौती बना रहा वीरप्पनहाथी के दांत और खाल के साथ चंदन की लकड़ी की तस्करी करता था

शनिवार सुबह शिकारियों ने तीन पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार दिया

गुना के आरोन इलाके के जंगल में शनिवार तड़के पुलिसकर्मी काले हिरण के शिकार के मामले में सर्चिंग करने गए थे। यहां शिकारियों ने छिपकर उन पर फायरिंग की।

शिकारियों ने जिस बेखौफ अंदाज में घटना को अंजाम दिया, उसने कुख्यात तस्कर वीरप्पन की याद दिला दी। 18 अक्टूबर, 2004 को पुलिसकर्मियों के हाथों मारे जाने से पहले वीरप्पन लंबे समय तक सुरक्षाबलों के लिए सिरदर्द बना रहा था।

हाथी दांत के लिए सैकड़ों हाथियों की जान लेने वाला वीरप्पन

करीब तीन दशकों तक सुरक्षाबलों के लिए चुनौती बना रहा। इस दौरान उसने डेढ़ सौ से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतारा था। इनमें आधे से ज्यादा पुलिसकर्मी थे। इसमें सबसे मशहूर किस्सा वन अधिकारी पी श्रीनिवास का है।

वन अधिकारी से लिया बदला
श्रीनिवास ने पहली बार वीरप्पन को गिरफ्तार किया था। हालांकि, वह ज्यादा देर तक पुलिस की गिरफ्त में नहीं रहा, लेकिन श्रीनिवास से बदला लेने की ठान ली।

कहा जाता है कि उसने श्रीनिवास का सिर काट दिया। इसके बाद कटे सिर के साथ उसने अपने साथियों के साथ फुटबॉल खेला था।

Guna Police Team Attack : शिकारियों की फायरिंग में 3 पुलिसकर्मियों की मौत, गुना की घटना पर सीएम सख्त...एक-एक करोड़ की सहायता राशि का किया ऐलान

पकड़ाते ही फरार हुआ
श्रीनिवास ने जब उसे गिरफ्तार किया था तो उसने तेज सिरदर्द का बहाना कर तेल की मांग की। जब तेल दिया गया तो उसने सिर के बजाय हाथों में लगा लिया और हथकड़ी को बाहर निकालकर फरार हो गया।

नवजात बेटी की ली जान
उसकी क्रूरता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि पुलिस से बचने के लिए उसने अपनी नवजात बेटी तक की जान ले ली थी। वीरप्पन जंगल में अपने सौ साथियों के साथ छिपा हुआ था।

पुलिस उसके पीछे पड़ी थी। उसे डर था कि नवजात बच्ची के रोने से पुलिस उसे पकड़ लेगी। उसने अपने हाथों बच्ची की हत्या कर उसका शव जमीन में गाड़ दिया। बाद में जब एसटीएफ वहां पहुंची तो जमीन के नीचे से शव निकाला।

गुना में 3 पुलिसकर्मियों की हत्या पर सीएम शिवराज सख्त, हटाए गए आईजी ग्वालियर, कहा- अपराधी किसी भी कीमत पर बचेंगे नहीं, 

ऐसे मारा गया था वीरप्पन
18 अक्टूबर, 2004 को वीरप्पन अस्पताल जा रहा था। इसकी भनक एसटीएफ को लग गई। एसटीएफ ने उसके रास्ते में बीच सड़क पर ट्रक खड़ा कर दिया। ट्रक में 22 जवान मौजूद थे।

वीरप्पन का एंबुलेंस ट्रक के पास पहुंचा तो एसटीएफ ने उसे सरेंडर करने को कहा। जवाब में वीरप्पन के सहयोगियों ने एंबुलेंस के अंदर से ही फायरिंग शुरू कर दी।

इसके बाद एसटीएफ के जवानों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी और ग्रेनेड फेंकने लगे। एक गोली वीरप्पन के सिर में लगी और उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई।