home page

उत्तर कोरिया में मचा कोरोना से हाहाकार, चार दिन में आठ लाख से अधिक मामले, 42 लोगों की मौत

उत्तर कोरिया में कोरोना का भयानक मंजर देखा जा रहा है। बीते चार दिनों में वहां 8 लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैं। जबकि 42 लोगों की मौत हुई है। वहीं रविवार को वहां 15 लोगों ने जान गंवाई।

 | 
kim yung un

Newz Fast, New Delhi उत्तर कोरिया में कोरोना का पहला केस आने के बाद से लॉकडाउन लगा दिया गया है। वीरवार को को वहां पहला केस आया था। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए शासक किम जोंग उन ने इसे एक बड़ी आपदा बताया है। वहीं उत्तर कोरिया में कोरोना का ये मंजर दुनियाभर के लिए टेंशन बन गया है क्योंकि यहां की स्वास्थ्य सुविधा बेहद खराब है। जिसके कारण बड़ी संख्या में लोग प्रभावित हो सकते हैं। उत्तर कोरिया पिछले दो सालों से कह रहा था कि उसके यहां कोरोना का एक भी मामला नहीं हैं। लेकिन अब हालात बेहद नाजुक बने हुए हैं।

north korea covid cases inceased
 
रविवार को 15 लोगों को हो चुकी मौत, मरीजों की आंकड़ा 820620 हो चुका 
बीते दो सालों से कोरोना को नकराने वाले देश उत्तर कोरिया में कोरोना का भयानक मंजर देखा जा रहा है। बीते चार दिनों में वहां 8 लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैंए जबकि 42 लोगों की मौत हुई है। वहीं रविवार को वहां 15 लोगों ने जान गंवाई। इसके अलावा संक्रमितों का आंकड़ा 820620 पहुंच चुका है।

पहला मामला आने के बाद से लगा दिया लॉकडाउन
विदित रहे कि वीरवार को उत्तर कोरिया ने देश में कोरोना का पहला मामला आने के बाद से लॉकडाउन लगा दिया गया है। उत्तर कोरिया पिछले दो सालों से कह रहा था कि उसके यहां कोरोना का कोई मामला नहीं हैंए लेकिन अब हालात बेहद चिंताजनक बन गए हैं। 

अप्रैल में राजधानी प्योंगयांग में बढ़ा था संक्रमण

हाल ही में उत्तर कोरिया की ओर से जानकारी दी गई थी कि कोरोना का प्रकोप अप्रैल में राजधानी प्योंगयांग में शुरू हुआ था। इसके बाद राजधानी में 15 और 25 अप्रैल को बड़े पैमाने पर सार्वजनिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जहां अधिकतर लोगों ने मास्क नहीं पहना था।

नहीं मिली दवा तो उठाना पड़ेगा भारी नुकसान

वहीं जानकारों का कहना है कि अगर उत्तर कोरिया को दवा और अन्य चिकित्सा आपूर्ति के बाहरी शिपमेंट तुरंत प्राप्त नहीं होते हैं तो देश को भारी मौत का सामना करना पड़ सकता है। इधरए अमेरिका ने अंतरराष्ट्रीय सहायता प्रयासों का समर्थन किया हैए लेकिन उत्तर कोरिया के साथ अपनी वैक्सीन आपूर्ति साझा करने की योजना नहीं है।