home page

सूरज की सबसे नजदीकी तस्वीर:7.40 करोड़ किमी की दूरी से ही दिखने लगीं लपटें, ESA-NASA के सोलर ऑर्बिटर ने 4 घंटे में खींची फोटोज

सूरज की अब तक ली गई सबसे करीब तस्वीर सामने आई है। इसमें सूरज की फुल डिस्क इमेज यानी पूरे गोले की तस्वीर दिख रही है। इसे नासा और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ESA) के सोलर ऑर्बिटर ने 7 मार्च को लिया है।
 | 
suraj ki kairne

Newz Fast, New Delhi इस तस्वीर को तब लिया गया, जब सूरज तारे से 7.40 करोड़ किमी की दूरी पर था।वैज्ञानिकों का कहना है कि यह 25 तस्वीरों की एक मोज़ेक है, जब आर्बिटर पृथ्वी और सूरज के बीच से निकल रहा था।

इसमें आउटर एटमोस्फियर और कोरोना एक साथ दिख रहे हैं। इस तस्वीर को लेने में चार घंटे से ज्यादा समय लगा है, क्योंकि इस तस्वीर की हर टाइल्स को बनने में करीब 10 मिनट का समय लगा है।

इसमें हर जगह छोटी-छोटी अनगिनत लपटें उठती दिखाई दे रही हैं, जिसे भविष्य में अंतरिक्ष मौसम की भविष्यवाणी में मदद करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

सूरज पर अलग-अलग गैस मौजूद हैं

इस तस्वीर में अलग-अलग रंगों में अलग-अलग गैसों और उनके तापमान को दिखाया गया है।सूरज पर मौजूद अलग-अलग गैस का अलग-अलग तापमान होता है।

कैप्चर की गई तस्वीरों में पर्पल रंग का गोला हाइड्रोजन गैस को दर्शा रहा है। इसका तापमान 10 हजार डिग्री सेल्सियस है। नीला गोला कार्बन को दर्शाता है, इसका तापमान 32 हजार डिग्री सेल्सियस है।

हरा रंग ऑक्सीजन गैस को दर्शा रहा है। यह 3.20 लाख डिग्री सेल्सियस गर्म है। पीला गोला नियॉन गैस को दर्शा रहा है, जिसका तापमान 6.30 लाख डिग्री सेल्सियस है।

50 साल में पहली बार ली गई ऐसी तस्वीर

यह 8.3 करोड़ पिक्सेल से अधिक की 25 स्टैक्ड तस्वीरों से बनी इमेज है।तस्वीर को स्पेक्ट्रल इमेजिंग ऑफ द कोरोनल एनवायरमेंट (SPICE) नाम के पेलोड ने कैप्चर किया है, जो सोलर ऑर्बिटर पर लगा है।

यह सूरज के सबसे नजदीक पहुंचकर 50 सालों में पहली बार ली गई तस्वीर है। इस तस्वीर की खास बात ये है कि इसने सूरज के हाइड्रोजन गैस से निकले अल्ट्रावॉयलेट रेज के लीमैन-बीटा वेवलेंथ को कैप्चर किया है।