home page

नई Maruti Suzuki S-Cross की आ गई लॉन्चिंग डेट, देखें कितनी बदल गई ये शानदार कार

 | 
maruti suzuki s cross car from maruti suzuki

Maruti S-Cross Unveil Update :  मारुति सुजुकी अपनी Suzuki S-Cross को लॉन्च करने जा रही है। जापानी कंपनी Suzuki नेक्स्ट-जेनरेशन S-Cross को 25 नवंबर को लॉन्च करेगी। कंपनी इसे सबसे पहले स्पेन (Spain) के बाजारें में उतारने जा रही है। वहीं अटकलें लगाई जा रही है देश में कारों की बढ़ती डिमांड को देखते इस जल्द ही भारत में भी लॉन्च किया जा सकता है। फिलहाल इसे डीजल इंजन का वेरिएंट दिया जाएगा या नहीं इसका खुलासा नहीं हुआ है। इस कार में Headlamps और Tail Lamps बिल्कुल नई डिज़ाइन के होंगे। 

नए प्लेटफ़ॉर्म पर किया गया विकसित
Maruti S-Cros को नए प्लेटफ़ॉर्म पर विकसित किया गया है। नई कार के डिज़ाइन और फीचर्स में बड़े बदलाव किए गए हैं। इसके इंटीरियर के साथ एक्सटीरियर में बदलाव देखने को मिलेगा। कपंनी ने इसमें सुविधाएं बढ़ाने के लिए नई टेक्नालॉजी के कई फीचर को ऐड किया है। लुक बदलने के लिए इस कार को रिडिजाइन किया गया है।

शानदार माइलेज का किया जा रहा दावा
Maruti S-Cros के फ्रंट में new grill दिया जाएगा, इससे इस कार का न्यू लुक दिखाई देगा। बता दें कि Suzuki कंपनी बीते दिनों न्यू एस-क्रॉस की टीज़र इमेज जारी की थी, जिसे देखकर इसके बदले बदलाव के संबंध में जानकारी सामने आई थी। नई एस-क्रॉस को इस  तरह डिजाइन किया गया है कि ये कार अब पहले से ज्यादा फ्यूल एफिशिएंट होगी। इस कार में  नई हाइब्रिड तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। अपडेटेड एस-क्रॉस नए MHEV सिस्टम 48-वोल्ट माइल्ड-हाइब्रिड सिस्टम इसकी ईंधन कैपेबिल्टी को काफी हद तक बढ़ा देगा।

पहले से अधिक पॉवरफुल इंजन मिलेगा
Maruti S-Cros में 1.5-लीटर इंजन को भी अपडेट किया गया है। नया इंजन 1.5-लीटर पेट्रोल इंजन पुराने मॉडल की तुलना में 105 पीएस की शक्ति और 138 एनएम का पीक टॉर्क उत्पन्न करेगा। यह इंजन 5-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन और 4-स्पीड ऑटोमैटिक के साथ दिया जाएगा। 

 AllGrip AWD सिस्टम भी दिया जा सकता है
मीडिया रिपोर्ट में ये दावा किया जा रहा है  कि नई S-Cross के साथ एक AllGrip AWD सिस्टम भी उपलब्ध कराया जाएगा। वहीं ये भी कहा जा रहा है कि ये टेक्नालॉजी इंडिया में लॉन्च की जाने वाली गाड़ियों में नहीं दी जाएगी। इसकी वजह से इस न्यू कार की कीमत में बारी इजाफा होगा, जिससे भारत में इसका टिकना मुश्किल हो सकता है।