home page

Platina Bike Milage : Platina बाइक केवल छह हजार में लाएं घर, 96 किलोमीटर की माइलेज के साथ

Newz Fast, New Delhi हम बात कर रहे हैं बजाज प्लेटिना बाइक की जिसकी शुरुआती कीमत 52,915 रुपये है जो टॉप मॉडल में 63,578 रुपये की हो जाती है।
 | 
platina bike milage

Platina Bike Milage

Platin Bike Price

Bajaj Platin Bike

भारत में जब बाइक खरीदने की बात होती है तो लोग माइलेज और कीमत के साथ साथ उस बाइक पर मिलने वाले फाइनेंस ऑफर का भी ध्यान रखते हैं।

जिसकी वजह है बजट की कमी होना। ऐसे लोगों को ध्यान में रखते हुए हम आज बताने जा रहे हैं उस माइलेज बाइक के बारे में जिसको आप बहुत कम डाउन पेमेंट पर घर ले जा सकते हैं।

हम बात कर रहे हैं बजाज प्लेटिना बाइक की जिसकी शुरुआती कीमत 52,915 रुपये है जो टॉप मॉडल में 63,578 रुपये की हो जाती है।

लेकिन हमारे बताए प्लान पर आप इस बाइक को महज 6 हजार रुपये देकर घर ले जा सकते हैं। इस डाउन पेमेंट की पूरी डिटेल जानने से पहले आप जान लीजिए इस बजाज प्लेटिना की माइलेज और फीचर्स की पूरी डिटेल।

बजाज प्लेटिना अपनी कंपनी की सबसे सफल माइलेज बाइक है। जिसको कंपनी ने तीन वेरिएंट में लॉन्च किया है। इस बाइक में दिया गया है सिंगल सिलेंडर वाला 102 सीसी का इंजन।

यह इंजन 7.9 पीएस की पावर और 8.3 एनएम का टॉर्क जनरेट कर सकता है। इस इंजन के साथ दिया गया है 4 स्पीड गियरबॉक्स। बाइक के फ्रंट व्हील में डिस्क ब्रेक और रियर व्हील में ड्रम ब्रेक दिया गया है। जिसके साथ ट्यूबलेस टायर दिए गए हैं।

बाइक की माइलेज को लेकर कंपनी का दावा है कि ये प्लेटिना 96.9 किलोमीटर प्रति लीटर का माइलेज देती है जो ARAI प्रमाणित है।

bajaj platina bike milage

अब जान लीजिए प्लेटिना पर मिलने वाले डाउन पेमेंट ऑफर की डिटेल। टू-व्हीलर सेक्टर की जानकारी देने वाली वेबसाइट BIKEDEKHO पर दिए गए डाउन पेमेंट और ईएमआई कैलकुलेटर के मुताबिक।

अगर आप इस बाइक का केएस एलॉय वेरिएंट खरीदते हैं तो कंपनी से संबंधित बैंक इसपर 58,490 रुपये को लोन देगा। जिस पर आपको न्यूनतम डाउन पेमेंट देनी होगी जो 6,499 रुपये बनती है।

इसके बाद आपको अगले 36 महीने तक 2,115 रुपये की मंथली ईएमआई चुकानी होगी। इस लोन की राशि पर बैंक 9.7 प्रतिशत वार्षिक दर से ब्याज लेगा।

आवश्यक सूचना: 

इस बाइक पर मिलने वाला लोन, डाउन पेमेंट और ईएमआई प्लान आपकी बैंकिंग और सिबिल स्कोर पर निर्भर करता है। जिसमें नेगेटिव रिपोर्ट होने पर बैंक लोन की राशि, डाउन पेमेंट और ईएमआई में परिवर्तन कर सकता है।