home page

अब बिना Petrol 1202km दौड़ी ये कार, ड्राइविंग रेंज के मामले में बनाया रिकॉर्ड

जर्मनी की लग्जरी कार बनाने वाले कंपनी मर्सिडीज- बेंज की विजन EQXX इलेक्ट्रिक सेडान ने एक बार फिर से रिकॉर्ड कायम कर दिया है।
 | 
car

Newz Fast, New Delhi बढ़ती महंगाई के दौर में लोग इलेक्ट्रिक वाहनों की तरफ बढ़ रहे हैं। ऐसे में वाहन निर्माता कंपनी भी इलेक्ट्रिक वाहनों के फीचर्स पर ज्यादा जोर दे रही है।

जर्मनी की लग्जरी कार बनाने वाले कंपनी मर्सिडीज- बेंज की विजन EQXX इलेक्ट्रिक सेडान ने एक बार फिर से रिकॉर्ड कायम कर दिया है। कंपनी ने सिंगल बैटरी चार्ज पर रिकॉर्ड बनाने का काम किया है।

इस कंपनी की कार ने 1 हजार किलोमीटर की यात्रा के निशान को पार करके ड्राइविंग रेंज के मामले में अपना ही रिकॉर्ड धवस्त कर दिया है।

अप्रैल में स्टटगार्ट से कैसिस (फ्रांस) तक अपनी पहली रिकॉर्ड-ब्रेकिंग ड्राइव के बाद प्रोटोटाइप कार ने सिंगल चार्ज पर यूके में स्टटगार्ट से सिल्वरस्टोन तक 1202 किलोमीटर का सफर तय किया।

यह एक प्योर इलेक्ट्रिक प्रोटोटाइप कार है, इसीलिए इसमें पेट्रोल की जरूरत नहीं होती है।

कंपनी का दावा है कि पूरे रोड ट्रिप के दौरान विज़न EQXX ने भारी ट्रैफिक और गर्मी के तापमान में 8।3 kWh/100km की औसत खपत हासिल की, जिसमें इसके इनोवेटिव थर्मल मैनेजमेंट सिस्टम का योगदान रहा।

मर्सिडीज-बेंज समूह के प्रबंधन बोर्ड के सदस्य मार्कस शेफर ने कहा, "पहले से ज्यादा एफिशिएंट यात्रा जारी है। एक बार फिर से, विज़न ईक्यूएक्सएक्स ने साबित कर दिया है कि यह सिंगल बैटरी चार्ज करने पर आसानी से 1,000 किमी से अधिक की दूरी तय कर सकती है। इस बार इसने वास्तविक दुनिया की स्थितियों का सामना किया।"

उन्होंने कहा, "मर्सिडीज-बेंज 2030 तक पूरी तरह से इलेक्ट्रिक होने का प्रयास कर रही है, जहां भी बाजार की स्थिति अनुमति देती है, दुनिया को यह दिखाना महत्वपूर्ण है कि अत्याधुनिक तकनीक, टीम वर्क और दृढ़ संकल्प के संयोजन के माध्यम से वास्तविक रूप में क्या हासिल किया जा सकता है।”

कंपनी के अनुसार, इस यात्रा की मुख्य चुनौतियां 30 डिग्री सेल्सियस तक की गर्मी का तापमान और स्टटगार्ट के आसपास तथा इंग्लैंड के दक्षिण-पूर्व में बढ़ा हुआ ट्रैफिक था।

यह यात्रा 14 घंटे 30 मिनट के ड्राइविंग समय में पूरी हुई। जिसके दौरान एयर कंडीशनिंग केवल आठ घंटे से अधिक समय तक चालू थी, फिर भी समग्र ऊर्जा खपत पर न्यूनतम नकारात्मक प्रभाव पड़ा। फिलहाल, यह कार बाजार में नहीं आई है। इस पर काम जारी है।