home page

हरियाणा समेत इन राज्यों में बदलने वाला है मौसम, फटाफट देखिये

Newz Fast, Hisar अब उम्मीद करते है कि उत्तरी मैदानी इलाकों का तापमान अगले सप्ताह तक धीरे-धीरे जारी रहेगा। वहीं, पंजाब, हरियाणा, उत्तरी राजस्थान के कुछ जिलों और दिल्ली और एनसीआर के अलग-अलग इलाकों में अगले सप्ताह तक न्यूनतम 1 अंक में हो सकते हैं।
 | 
weather rain update

Haryana Weather News

Haryana Weather

Haryana Me Baris

उत्तरी मैदानी इलाकों में 25 अक्टूबर से मौसम शुष्क बना हुआ है। सर्दियों की बारिश आमतौर पर पश्चिमी हिमालय के साथ-साथ उत्तरी मैदानी इलाकों में पश्चिमी विक्षोभ के आने के कारण होती है। 

नवंबर के महीने में औसतन 3-4 पश्चिमी विक्षोभ पश्चिमी हिमालय तक पहुंचते हैं। हालाँकि इस बार पश्चिमी विक्षोभ के अभाव में उत्तर भारत का मौसम अब तक शुष्क रहा जोकि असामान्य है। वहीं आने वाले एक या दो सप्ताह के लिए पश्चिमी हिमालय के पास किसी भी महत्वपूर्ण पश्चिमी विक्षोभ या मौसम प्रणाली की उम्मीद नहीं है।

जब भी पश्चिमी विक्षोभ के बीच एक अधिक अंतर होता है, हवाएं उत्तर-पश्चिम दिशा से चलती हैं जो सर्दियों के दौरान सामान्य पैटर्न है। उत्तर पश्चिम से शुष्क और ठंडी हवाओं के लगातार प्रवाह से तापमान में गिरावट आ रही है।  अब उम्मीद करते है कि उत्तरी मैदानी इलाकों का तापमान अगले सप्ताह तक धीरे-धीरे जारी रहेगा। वहीं, पंजाब, हरियाणा, उत्तरी राजस्थान के कुछ जिलों और दिल्ली और एनसीआर के अलग-अलग इलाकों में अगले सप्ताह तक न्यूनतम 1 अंक में हो सकते हैं।

Haryana Weather Forecast

स्काइमेट के मौसमी विशेषज्ञों के अनुसार, दिल्ली और एनसीआर के न्यूनतम तापमान में और गिरावट आ सकती थी, जिससे सर्दियां बढ़ सकती थीं। लेकिन गंभीर वायु प्रदूषण ग्रीनहाउस प्रभाव के रूप में कार्य कर रहा है और न्यूनतम तापमान को गिरने नहीं दे रहा है।

देश भर में बने मौसमी सिस्टम 
कम दबाव का क्षेत्र दक्षिणपूर्व और उससे सटे दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी पर बना हुआ है। संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 5.8 किमी तक फैला हुआ है। यह आज शाम तक एक दबाव के रूप में केंद्रित हो सकता है और उत्तरी तमिलनाडु तट की ओर बढ़ जाएगा।

ट्रफ रेखा चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र से लेकर मन्नार की खाड़ी तक फैली हुई है।
13 नवंबर के आसपास दक्षिण अंडमान सागर और आसपास के क्षेत्र में एक नया निम्न दबाव का क्षेत्र बनेगा और यह धीरे-धीरे तेज होते हुए पश्चिम उत्तर पश्चिम दिशा में आगे बढ़ेगा।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल
पिछले 24 घंटों के दौरान तमिलनाडु के तटीय इलाकों में मध्यम से भारी बारिश हुई है। आंतरिक तमिलनाडु, दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश हुई। 

केरल, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और लक्षद्वीप के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हुई।  दिल्ली-एनसीआर के साथ-साथ भारत के गंगा के मैदानी इलाकों का वायु प्रदूषण बहुत खराब श्रेणी में बना हुआ है।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, तमिलनाडु के तटीय भागों और इससे सटे दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश में भारी से बहुत भारी बारिश संभव है। आंतरिक तमिलनाडु, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और रायलसीमा के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

केरल, तटीय कर्नाटक और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश संभव है। तेलंगाना, उत्तरी आंतरिक कर्नाटक और लक्षद्वीप में हल्की बारिश हो सकती है। दिल्ली और एनसीआर में वायु प्रदूषण बहुत खराब श्रेणी में रह सकता है।