UP के 12 जिलों को मिलाकर बनाया जाएगा गंगा एक्सप्रेसवे, कम समय में तय होगा सफर

Newz Fast
2 Min Read
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Newz Fast, New Delhi, Ganga Expressway : उत्तर प्रदेश में सबसे लंबे गंगा एक्सप्रेसवे का निर्माण किया जा रहा है। इस एक्सप्रेसवे की लंबाई 594 किलोमीटर तक होने वाली है। इस एक्सप्रेसवे को निर्माण से मेरठ को प्रयागराज से जोड़ा जा सकेगा। इसका निर्माण 12 जिलों की जमीनों को मिलाकर किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश में सबसे बड़े एक्सप्रेसवे को बनाया जा रहा है। इसकी लंबाई 594 किलोमीटर तक होने वाली है। इसके निर्माण से कई जिलों के लोगों के लिए सफर कम समय में तय करना आसान हो जाएगा। इससे लोग मेरठ से प्रयागराज तक का सफर सिर्फ 8 घंटों में पूरा कर पाएंगे। इस एक्सप्रेसवे का नाम गंगा एक्सप्रेसवे रखा गया है।

Also read this : Gurugram में बिछाई जाएगी 28.50 किलोमीटर लंबी नई मेट्रो लाइन, 27 स्टेशनों का होगा निर्माण 

इसके निर्माण से पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कनेक्टिविटी बढ़ेगी इसी के साथ ही दिल्ली से लोगों के लिए आवाजाही भी आसान हो जाएगी। इस एक्सप्रेसवे (Ganga Expressway) का दूसरा नाम ग्रीन एक्सप्रेसवे रखा गया है।

इसके निर्माण कार्य को जल्द से जल्द पूरा किए जाने की कोशिश की जा रही है। अनुमान है कि गंगा एक्सप्रेसवे को 2025 तक बना दिया जाएगा। लोगों को जल्द ही इसकी सुविधा उपलब्ध हो सकेगी।

इस एक्सप्रेसवे को दिल्ली और मेरठ से जोड़ा जाना है। इससे लोगों के लिए दिल्ली और मुंबई तक का सफर लोग आसानी से तय कर सकेंगे। 12 जिलों को मिलाकर इस एक्सप्रेसवे का निर्माण किया जाएगा।

Also read this : Gurugram में बिछाई जाएगी 28.50 किलोमीटर लंबी नई मेट्रो लाइन, 27 स्टेशनों का होगा निर्माण 

इस एक्सप्रेसवे में मेरठ, हापुड़, अमरोहा, शाहजहांपुर, बदायूं, प्रतापगढ़, रायबरेली, प्रयागराज, सम्भल, बुलंदशहर, हरदोई और उन्नाव जिले शामिल है। आपातकालीन विमान की लैंडिग भी इस एक्सप्रेसवे पर की जा सकेगी।

इसके मुख्य टोल प्लाजा मेरठ और प्रयागराज होने वाले हैं। इसमें 12 टोल प्लाजा शामिल होंगे। इस पर वाहन 120 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार पकड़ सकेंगे।

Share This Article